Uttarakhand Weather Forecast: आज लगातार पांचवें दिन बारिश जारी, गंगोत्री हाईवे मलबा आने से बंद

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


सार

बता दें कि 17 जुलाई की शाम से राज्य के लगभग सभी इलाकों में रुक-रुक कर बारिश का दौर जारी है। वहीं आज बदरीनाथ, केदारनाथ और यमुनोत्री हाईवे खुले हुए हैं, लेकिन गंगोत्री हाईवे मलबा आने से बंद पड़ा हुआ है।

उफान पर नदियां
– फोटो : अमर उजाला

ख़बर सुनें

उत्तराखंड में लगातार पांचवें दिन आज बुधवार को भी लगभग सभी इलाकों में रुक-रुक कर बारिश होने का सिलसिला जारी है। इससे एक ओर जहां मौसम सुहावना हो गया है। वहीं लोगों को जलभराव, भूस्खलन और मार्ग बंद होने के चलते परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। मसूरी में देर रात से बारिश हो रही है। घना कोहरा भी छाया हुआ है।

उत्तराखंड: कुमाऊं में बारिश से रास्ते बंद, उफनाए गदेरे में बही महिला, गुरुग्राम के पर्यटक की मौत, तस्वीरें…

17 जुलाई की शाम से रुक-रुक कर बारिश का दौर जारी
बुधवार को तड़के से ही राजधानी देहरादून सहित सभी इलाकों में बारिश हो रही है।  हालांकि सुबह साढ़े नौ बजे दून में धूप निकल आई। बता दें कि 17 जुलाई की शाम से राज्य के लगभग सभी इलाकों में रुक-रुक कर बारिश का दौर जारी है। वहीं बुधवार को बदरीनाथ, केदारनाथ और यमुनोत्री हाईवे खुले हुए हैं, लेकिन गंगोत्री हाईवे मलबा आने से बंद पड़ा हुआ है।

Uttarkashi: बादल फटने से तीन लोग जिंदा दफन, सुबह दिखा भयावह मंजर, देखें वीडियो…

बारिश से मौसम में ठंडक आई
चमोली जनपद में रुक-रुककर बारिश जारी है। बदरीनाथ हाईवे नगरासू से माणा गांव तक सुचारु है। जिले में 37 संपर्क मोटर मार्ग जगह-जगह मलबा आने से अवरुद्ध पड़े हैं। मौसम के दिनभर खराब रहने के आसार बने हुए हैं। बारिश से मौसम में ठंडक आ गई है।

उत्तराखंड: उत्तरकाशी में रात को फटा बादल, तीन गांवों पर बरसी तबाही, सुबह दिखा खौफनाक मंजर, तस्वीरें

गंगोत्री हाईवे सुनगर के पास मलबा व बोल्डर आने से अवरुद्ध
उत्तरकाशी में भी बारिश का सिलसिला जारी है। यहां बुधवार सुबह से बूंदाबांदी हो रही है। गंगोत्री हाईवे सुनगर के पास मलबा व बोल्डर आने से अवरुद्ध है। बीआरओ की मशीनें व मजदूर हाईवे खोलने में जुट गए हैं।

टिहरी जिले के नौ ग्रामीण संपर्क मोटर मार्ग बंद
नई टिहरी और आसपास के क्षेत्रों में बादल छाए हैं। यहां बारिश की संभावना बनी हुई है। टिहरी जिले के नौ ग्रामीण संपर्क मोटर मार्ग यातायात के लिए बाधित हैं।

 पिछले कुछ दिनों से प्रदेश में मूसलाधार बारिश के कारण मलबा आने से सड़कों के बंद होने का सिलसिला जारी है। प्रदेश की कुल 347 सड़कें बंद हैं। इनमें 323 वह सड़कें ऐसी हैं, जो गांवों को सीधे जिला मुख्यालयों से जोड़ती हैं। ऐसे में इन गांवों में रह रहे लोगों को विभिन्न दुश्वारियों का सामना करना पड़ रहा है। पेयजल लाइनों और सिंचाई नहरों को भी नुकसान पहुंचा है। जिसका अभी आकलन ही किया जा रहा है। 

मंगलवार दोपहर तक लोनिवि की ओर से जारी बुलेटिन के अनुसार राज्य में कुल 347 मार्ग अवरुद्ध थे। इनमें एक नेशनल हाईवे, चार राज्य सड़कें, 11 जिला मोटर मार्ग, आठ अन्य जिला मार्ग, 124 ग्रामीण सड़कें (सिविल) और 199 सड़कें पीएमजीएसवाई की मलबा आने और अन्य दूसरे कारणों से अवरुद्ध थीं।

 

कार्यदायी एजेंसी लोनिवि और अन्य एजेंसियों के सामने समस्या येे है कि उन्हें नियमों के तहत पहले नेशनल हाईवे, फिर राज्य सड़कें और इसके बाद जिला मार्ग खोलने होते हैं। ऐसे में ग्रामीण सड़कों का नंबर सबसे आखिर में आता है। इधर लगातार बारिश के बाद सड़कों के खुलने के बाद फिर से बंद होने का सिलसिला भी चलता रहता है। लोनिवि की ओर से सड़कों को खोलने के लिए कुल 438 जेसीबी मशीनों को लगाया गया है।

सड़कों को खोलने को लगाईं 438 जेसीबी
लोनिवि के प्रमुख अभियंता हरिओम शर्मा ने बताया कि सड़कों को खोलने का काम प्राथमिकता के आधार पर किया जा रहा है। पहले मुख्य सड़कों और फिर ब्रांच रोड को खोलने का काम किया जा रहा है। इस काम में प्रदेशभर में 438 जेसीबी तैनात की गई हैं। 141 जेसीबी की तैनाती नेशनल हाईवे पर की गई है। इसी तरह से 31 जेसीबी स्टेट हाईवे, 13 मुख्य जिला मार्गों, 13 अन्य जिला मार्गों, 95 विलेज रोड और 145 पीएमजीएसवाई की सड़कों को खोलने पर लगाया गया है।

मौसम विभाग के अनुसार अगले 24 घंटे में राज्य के नैनीताल, चंपावत और पिथौरागढ़ जैसे जिलों में कहीं-कहीं भारी बारिश होने की संभावना है। राज्य के अन्य इलाकों में तेज गर्जना के साथ तेज बौछारें पड़ने और आकाशीय बिजली की संभावना है।

मौसम के बदले मिजाज के चलते मंगलवार को मूसलाधार बारिश का दौर थम गया। राजधानी दून व आसपास के इलाकों में बादल छाए रहे। इस दौरान कई इलाकों में रिमझिम बारिश हुई, लेकिन झमाझम बारिश के आसार नहीं बने। 

राजधानी दून में मंगलवार को अधिकतम तापमान 29.2 डिग्री और न्यूनतम तापमान 23.3 डिग्री के आसपास रहा। आसमान में बादल छाए रहने और तापमान में गिरावट के चलते गर्मी से राहत रही।

मौसम विभाग के अनुसार अगले दो दिनों तक राजधानी व आसपास के इलाकों में बादल छाए रहेंगे। कई दौर की बारिश भी हो सकती है। अगले 48 घंटे तक अधिकतम तापमान 30 डिग्री के आसपास रहेगा।

विस्तार

उत्तराखंड में लगातार पांचवें दिन आज बुधवार को भी लगभग सभी इलाकों में रुक-रुक कर बारिश होने का सिलसिला जारी है। इससे एक ओर जहां मौसम सुहावना हो गया है। वहीं लोगों को जलभराव, भूस्खलन और मार्ग बंद होने के चलते परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। मसूरी में देर रात से बारिश हो रही है। घना कोहरा भी छाया हुआ है।

उत्तराखंड: कुमाऊं में बारिश से रास्ते बंद, उफनाए गदेरे में बही महिला, गुरुग्राम के पर्यटक की मौत, तस्वीरें…

17 जुलाई की शाम से रुक-रुक कर बारिश का दौर जारी

बुधवार को तड़के से ही राजधानी देहरादून सहित सभी इलाकों में बारिश हो रही है।  हालांकि सुबह साढ़े नौ बजे दून में धूप निकल आई। बता दें कि 17 जुलाई की शाम से राज्य के लगभग सभी इलाकों में रुक-रुक कर बारिश का दौर जारी है। वहीं बुधवार को बदरीनाथ, केदारनाथ और यमुनोत्री हाईवे खुले हुए हैं, लेकिन गंगोत्री हाईवे मलबा आने से बंद पड़ा हुआ है।

Uttarkashi: बादल फटने से तीन लोग जिंदा दफन, सुबह दिखा भयावह मंजर, देखें वीडियो…

बारिश से मौसम में ठंडक आई

चमोली जनपद में रुक-रुककर बारिश जारी है। बदरीनाथ हाईवे नगरासू से माणा गांव तक सुचारु है। जिले में 37 संपर्क मोटर मार्ग जगह-जगह मलबा आने से अवरुद्ध पड़े हैं। मौसम के दिनभर खराब रहने के आसार बने हुए हैं। बारिश से मौसम में ठंडक आ गई है।

उत्तराखंड: उत्तरकाशी में रात को फटा बादल, तीन गांवों पर बरसी तबाही, सुबह दिखा खौफनाक मंजर, तस्वीरें

गंगोत्री हाईवे सुनगर के पास मलबा व बोल्डर आने से अवरुद्ध

उत्तरकाशी में भी बारिश का सिलसिला जारी है। यहां बुधवार सुबह से बूंदाबांदी हो रही है। गंगोत्री हाईवे सुनगर के पास मलबा व बोल्डर आने से अवरुद्ध है। बीआरओ की मशीनें व मजदूर हाईवे खोलने में जुट गए हैं।

टिहरी जिले के नौ ग्रामीण संपर्क मोटर मार्ग बंद

नई टिहरी और आसपास के क्षेत्रों में बादल छाए हैं। यहां बारिश की संभावना बनी हुई है। टिहरी जिले के नौ ग्रामीण संपर्क मोटर मार्ग यातायात के लिए बाधित हैं।


आगे पढ़ें

प्रदेश की कुल 347 अवरुद्ध सड़कों में से 323 ग्रामीण सड़कें  



Source link

Author: riteshkucc01

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *