Rajasthan: शुभ घड़ी देख एटीएम लूटने पहुंचा चोर, पकड़ा गया तो बोला- एक घंटा लेट होने से बिगड़ा काम


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, जयपुर
Updated Tue, 08 Dec 2020 03:53 PM IST

राजस्थान: एसबीआई एटीएम
– फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

लोग अक्सर शादी ब्याह या किसी शुभ काम को करने के लिए मुहूर्त तय करते हैं, लेकिन राजस्थान में एक ऐसी घटना सामने आई है जिसमें चोर ने चोरी करने के लिए शुभ मुहूर्त देखा। दरअसल, यह घटना मंडली कस्बे में स्थित एसबीआई बैंक में घटी है। चोरों ने 5 दिसंबर आधी रात को एसबीआई बैंक का एटीएम तोड़कर नकदी चुराने का प्रयास किया था। जिसके बाद पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया। पुलिस घटना के दो दिन बाद इस वारदात का खुलासा किया। एसबीआई मैनेजर पवन नगदी ने 5 दिसंबर को रिपोर्ट पेश करके बताया कि भारतीय स्टेट बैंक की शाखा मंडली कस्बे के अंदर एटीएम रखा हुआ था। 4 दिसंबर शाम 7.45 को वह शाखा को बंद करके चले गए थे। गांव में पांच दिसंबर को पंचायत चुनाव होने के कारण बैंक नहीं खुला था।

एटीएम तोड़ने की कोशिश

इसके बाद एटीएम मैनेजर का फोन आया। उसने बैंक मैनेजर को बताया कि बैंक का एटीएम बंद है, जब शाखा को खोलकर देखा तो पता चला कि किसी ने एटीएम तोड़ने की कोशिश की है। साथ ही, कोई सीसीटीवी का मॉनिटर उठा ले गया है। किसी अज्ञात व्यक्ति ने बैंक का पीछे का दरवाजा तोड़कर इस घटना को अंजाम दिया। पुलिस ने मामला दर्द कर घटना की जांच शुरु कर दी है।

बैंक में जमा करने आया था पैसे

वारदात की तहकीकात के लिए पुलिस ने एसपी आनंद शर्मा, एएसपी नितेश आर्य व डीएसपी सुभाषचंद्र के सुपरविजन में घटनास्थल की बारीकी से जांच हुई और कुछ महत्वपूर्ण सबूत जुटाए। जांच में पुलिस ने आरोपी को नामजद कर प्रकाश पुत्र कालूराम से पूछताछ की गई। पूछताछ में आरोपी ने अपना जुर्म कबूल कर लिया। पूछताछ में आरोपी ने बताया कि 4 दिसंबर को दिन में एसबीआई बैंक में पैसे जमा करने आया था। बैंक में भीड़ रहने पर ईमित्र पर गया लेकिन वहां पर नेट न होने के कारण वह फिर  से बैंक आ गया। इसके बाद बैंक के एटीएम पर उसकी नजर पड़ी, जहां पर 500-500 रुपए की नोटों की बंडलों को डाली जा रही थी। इस पर आरोपी की नियत बदल गई।

चोरी करने से पहले देखा मुहूर्त

थानाधिकारी दाउद खान बताया कि पूछताछ में सामने आया कि आरोपी ने उसी दिन रात को चोरी करने का फैसला लिया और घर से एक लोहे की सरिया लेकर रात बैंक पहुंचा। चोरी करने से पहले उसने गूगल पर शुभ मुहूर्त देखा, तो मुहूर्त 12 बजे का था, लेकिन किसी  वजह से वह करीब एक घंटे देर से रात 1 बजे  घटना को अंजाम देने पहुंचा। घटना के दौरान बैंक के सीसीटीवी चालू थे। उसने सबूत मिटाने के लिए सीसीटीवी के तार तोड़ दिए और एक मॉनिटर भी चुरा लिया, लेकिन उसको रास्ते में गंगावास गांव के तालाब में फेंक दिया। आरोपी ने एक घंटे तक एटीएम मशीन तोड़ने की कोशिश की लेकिन वह इसमें सफल न हो पाया। फिलहाल पुलिस ने आरोपी को पकड़ लिया है, और उससे अन्य वारदातों के बारे में पूछताछ कर रही है।
 

लोग अक्सर शादी ब्याह या किसी शुभ काम को करने के लिए मुहूर्त तय करते हैं, लेकिन राजस्थान में एक ऐसी घटना सामने आई है जिसमें चोर ने चोरी करने के लिए शुभ मुहूर्त देखा। दरअसल, यह घटना मंडली कस्बे में स्थित एसबीआई बैंक में घटी है। चोरों ने 5 दिसंबर आधी रात को एसबीआई बैंक का एटीएम तोड़कर नकदी चुराने का प्रयास किया था। जिसके बाद पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया। पुलिस घटना के दो दिन बाद इस वारदात का खुलासा किया। एसबीआई मैनेजर पवन नगदी ने 5 दिसंबर को रिपोर्ट पेश करके बताया कि भारतीय स्टेट बैंक की शाखा मंडली कस्बे के अंदर एटीएम रखा हुआ था। 4 दिसंबर शाम 7.45 को वह शाखा को बंद करके चले गए थे। गांव में पांच दिसंबर को पंचायत चुनाव होने के कारण बैंक नहीं खुला था।

एटीएम तोड़ने की कोशिश

इसके बाद एटीएम मैनेजर का फोन आया। उसने बैंक मैनेजर को बताया कि बैंक का एटीएम बंद है, जब शाखा को खोलकर देखा तो पता चला कि किसी ने एटीएम तोड़ने की कोशिश की है। साथ ही, कोई सीसीटीवी का मॉनिटर उठा ले गया है। किसी अज्ञात व्यक्ति ने बैंक का पीछे का दरवाजा तोड़कर इस घटना को अंजाम दिया। पुलिस ने मामला दर्द कर घटना की जांच शुरु कर दी है।

बैंक में जमा करने आया था पैसे

वारदात की तहकीकात के लिए पुलिस ने एसपी आनंद शर्मा, एएसपी नितेश आर्य व डीएसपी सुभाषचंद्र के सुपरविजन में घटनास्थल की बारीकी से जांच हुई और कुछ महत्वपूर्ण सबूत जुटाए। जांच में पुलिस ने आरोपी को नामजद कर प्रकाश पुत्र कालूराम से पूछताछ की गई। पूछताछ में आरोपी ने अपना जुर्म कबूल कर लिया। पूछताछ में आरोपी ने बताया कि 4 दिसंबर को दिन में एसबीआई बैंक में पैसे जमा करने आया था। बैंक में भीड़ रहने पर ईमित्र पर गया लेकिन वहां पर नेट न होने के कारण वह फिर  से बैंक आ गया। इसके बाद बैंक के एटीएम पर उसकी नजर पड़ी, जहां पर 500-500 रुपए की नोटों की बंडलों को डाली जा रही थी। इस पर आरोपी की नियत बदल गई।

चोरी करने से पहले देखा मुहूर्त

थानाधिकारी दाउद खान बताया कि पूछताछ में सामने आया कि आरोपी ने उसी दिन रात को चोरी करने का फैसला लिया और घर से एक लोहे की सरिया लेकर रात बैंक पहुंचा। चोरी करने से पहले उसने गूगल पर शुभ मुहूर्त देखा, तो मुहूर्त 12 बजे का था, लेकिन किसी  वजह से वह करीब एक घंटे देर से रात 1 बजे  घटना को अंजाम देने पहुंचा। घटना के दौरान बैंक के सीसीटीवी चालू थे। उसने सबूत मिटाने के लिए सीसीटीवी के तार तोड़ दिए और एक मॉनिटर भी चुरा लिया, लेकिन उसको रास्ते में गंगावास गांव के तालाब में फेंक दिया। आरोपी ने एक घंटे तक एटीएम मशीन तोड़ने की कोशिश की लेकिन वह इसमें सफल न हो पाया। फिलहाल पुलिस ने आरोपी को पकड़ लिया है, और उससे अन्य वारदातों के बारे में पूछताछ कर रही है।

 



Source link

Author: riteshkucc01

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *