MP News: 1.80 लाख लेकर बनाए थे नकली रेमडेसिविर के 75 हजार रैपर, इस आरोपी से अभी और होंगे खुलासे

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


जबलपुर. नकली रमेडेसिविर का विवाद थमता नजर नहीं आ रहा. इस मामले में एक-एक कर नए-नए आरोपी पुलिस गिरफ्त में आते जा रहे हैं. बीते हफ्ते गुजरात की मोरबी पुलिस द्वारा गिरफ्तार आरोपी नागेश को जबलपुर पुलिस प्रोडक्शन वारंट पर ले आई है. आरोपी ने 1 लाख 80 हजार रुपए बनाए रेमडेसिविर इंजेक्शन के 75000 रैपर बनाए थे.

गौरतलब है कि नकली रेमडेसिविर रैकेट मामले में अब तक नागेश 11वें आरोपी के रूप में सामने आया है. इसने इंजेक्शन के लिए सबसे अहम पार्ट कहे जाने वाले रैपर को बनाने की भूमिका अदा की थी. आरोपी ने पौने दो लाख रुपए लेकर 70 हजार से ज्यादा रैपर बनाए थे. गुजरात के मोरबी पुलिस ने महाराष्ट्र बॉर्डर से सटे दक्षिणी गुजरात के इंडस्ट्रियल एरिया वापी से नागेश को गिरफ्तार किया था.

अब तक ये हो चुके गिरफ्तार

नागेश को जबलपुर SIT प्रोडक्शन वारंट पर 3 दिनों की रिमांड पर लेकर आई है. उससे मामले से जुड़े अन्य तथ्यों की भी जांच भी की जाएगी. अब तक इस मामले में सिटी अस्पताल के संचालक सरबजीत सिंह मोखा, उनकी पत्नी जसमीत मौखा, मैनेजर सोनिया खत्री, दवा कर्मी देवेश चौरसिया, बेटा हरकरण मोखा, भगवती फार्मा का संचालक सपन जैन, इंदौर में एमआर के पद पर कार्यरत राकेश मिश्रा, फार्मा फैक्ट्री से इंजेक्शन खरीदी में बिचौलिया रीवा निवासी सुनील मिश्रा, और नकली रेमडेसिविर फैक्ट्री के मुख्य कर्ताधर्ता पुनीत शाह और कौशल वोरा पुलिस की गिरफ्त में आ चुके हैं. सभी जेल में बंद हैं.

मरीजों की जान से खिलवाड़

गौरतलब है कि नकली रेमडेसिविर के ये इंजेक्शन गुजरात की एक फैक्ट्री में बनाए जा रहे थे. इनमें से 12 सौ की खेप मध्यप्रदेश पहुंची थी. इनमें 700 इंजेक्शन इंदौर तो 500 इंजेक्शन जबलपुर पहुंचे थे. इन इंजेक्शन को सिटी अस्पताल में इलाजरत 171 मरीजों को लगा दिया गया था. मरीजों की जान से खिलवाड़ किया गया था.

जबलपुर की इस खबर पर भी डालें नजर

मध्यप्रदेश में कुछ समय पहले तक तेजी से फैले कोरोना संक्रमण के बाद सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए जेलों में बंद अपराधियों को पैरोल पर छोड़ने का फैसला लिया. यह फैसला सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट के उस निर्देश के बाद लिया गया था जिसमें ये कहा गया था कि कोरोना संक्रमण को देखते हुए जेलों में कैदियों की संख्या को कम किया जाए और महामारी के दौरान उन्हें पैरोल दी जाए. अब सरकार की ओर से कैदियों को छोड़ने के मामले में हाईकोर्ट में एक जनहित याचिका लगाई गई है. याचिका में दुष्कर्म और अन्य कुख्यात अपराधों में बंद अपराधियों को पैरोल पर नहीं छोड़ने की मांग की गई है. इस याचिका की सुनवाई के बाद हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.



Source link

Author: riteshkucc01

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *