MP government schools: सरकारी स्कूलों में 15 सितंबर से 3 दिनों तक आयोजित होगी पेरेंट्स टीचर मीटिंग

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


नई दिल्ली. Parents teacher meeting in MP gov schools: अभिभावकों और शिक्षकों के बीच संवाद स्थापित करने के लिए प्रदेश के सरकारी स्कूलों में पेरेंट्स टीचर मीटिंग का आयोजन किया जाना है. इस तरह की मीटिंग का आयोजन स्कूलों में दो साल बाद किया जाना निश्चित किया गया है. मीटिंग के दौरान अभिभावकों से बच्चों के बेहतर रिजल्ट को लेकर चर्चा की जाएगी. सरकारी स्कूलों में पैरंट्स टीचर मीटिंग 15 सितंबर से 17सितंबर तक होनी है.

सरकारी स्कूलों में 15 सितंबर से शुरू हो रही पैरेंट्स टीचर मीटिंग तीन दिनों तक  चलेगी. इस दौरान पैरेंट्स टीचर मीटिंग के जरिए शिक्षकों और टीचर्स के बीच संवाद स्थापित किया जाएगा. नए शिक्षा सत्र में कक्षाओं के पाठ्यक्रम (सिलेबस) को तय समय सीमा अवधि में पूरा करनेअभिभावकों से सहयोग मांगा जाएगा. इसके साथ ही घर पर भी बच्चों की पढ़ाई में सहयोग करने शिक्षकों की अभिभावकों से चर्चा होगी और रिजल्ट को बेहतर बनाने अभिभावकों की भूमिका तय की जाएगी.

2 साल पहले शुरू हुई थी पैरंट्स टीचर मीटिंग
सरकारी स्कूल में निजी स्कूलों की तर्ज पर 2 साल पहले पैरेंट्स टीचर मीटिंग शुरू की गई थी. सरकारी स्कूलों में गरीब और आर्थिक रूप से पिछड़े वर्ग के बच्चों के माता-पिता और शिक्षकों के बीच संवाद स्थापित करने की नई पहल की गई थी. कोरोना संक्रमण के चलते दो बार ही मीटिंग आयोजित हो सकी थी. अब दो साल बाद मध्य प्रदेश के सभी सरकारी स्कूलों में शिक्षकों और अभिभावकों के बीच बातचीत का सिलसिला शुरू होगा. तीन दिनों तक लगातार सभी सरकारी स्कूलों में बच्चों के माता-पिता शिक्षकों से चर्चा करेंगे.

ये भी पढ़ें-

ICAI CA results 2021: मुरैना के भाई-बहन ने कायम की मिसाल, एक ने किया टॉप तो दूसरे की 18वीं रैंक

UP Mahila Mate Recruitment 2021 : यूपी में 25000 महिला मेट की भर्ती, ऐसे करें आवेदन, जानें क्या होगा काम

पहली बार की मीटिंग में मिला था बेहतर रिस्पॉन्स
मध्य प्रदेश में सरकारी स्कूलों में अभिभावकों और शिक्षकों के बीच संवाद स्थापित करने कांग्रेस सरकार में पैरंट्स टीचर मीटिंग की शुरुआत हुई थी. पैरंट्स टीचर मीटिंग का उद्देश्य यही था कि आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के बच्चों के माता-पिता घरों में बच्चों की पढ़ाई पर ध्यान दें. बच्चों की कॉपियों को चेक करें. कमजोर बच्चे को पढ़ाने की कोशिश करें. सरकारी स्कूलों में पढ़ रहे बच्चों की उपलब्धियों, कमजोरियों और उपलब्धियों के बारे में पैरंट्स टीचर मीटिंग के जरिए अभिभावकों को रूबरू कराया गया था. सरकारी स्कूलों में पैरेट्स टीचर मीटिंग सफल रही थी, जिसके बाद अब भाजपा सरकार में पैरंट टीचर मीटिंग को आयोजित किया जा रहा है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.



Source link

Author: riteshkucc01

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *