MP की जेल भी कोरोना की चपेट में : अब तक 300 से ज्यादा कैदी संक्रमित

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


जेलों में क्षमता से ज़्यादा कैदी होने के कारण कोरोना संक्रमण तेजी से फैल रहा है.

Bhopal. जेलों (Jail) में संक्रमण रोकने के लिए गाइडलाइन भी जारी की गई है. इस गाइडलाइन (guideline) के तहत कैदियों की जांच जरूरी है. कोरोना संक्रमण के सिम्टम होने पर उन्हें 15 दिन के लिए आइसोलेट किया जाता है.

भोपाल. कोरोना संक्रमण (Corona virus) के इस भयावह दौर में मध्य प्रदेश की जेलें (Jail) भी इसकी चपेट में आ गयी हैं. कोरोना की दूसरी लहर का असर यहां भी दिखने लगा है. पूरे प्रदेश की जेलों में 300 से ज़्यादा संक्रमित कैदी हैं. जेलों में क्षमता से ज़्यादा कैदी होने के कारण ये स्थिति बन रही है. मध्य प्रदेश की जेलों में भी संक्रमण का खतरा बढ़ गया है. यह स्थिति क्षमता से ज्यादा कैदियों की वजह से बन रही है. सरकार ने कैदियों को पैरोल पर छोड़ने का फैसला भी लिया है, लेकिन उससे पहले ही संक्रमण ने रफ्तार पकड़ ली है. पूरे मध्य प्रदेश की जेलों में अभी तक 300 कैदी कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं. इसके पीछे सबसे बड़ी वजह क्षमता से अधिक बंदी होना बताई जा रही है. जेल विभाग ने संख्या कम करने के लिए बंदियों को पैरोल पर छोड़ा है.  जितने बंदियों को पैरोल मिली है, उससे अधिक संख्या में नए कैदी जेल में आ रहे हैं. ये है जेलों की हालत…प्रदेश की 131 जेलों में करीब 50 हजार कैदी बंद हैं. इन जेलों में कैदियों  को रखने की क्षमता करीब 28 हजार की ही है. सरकार ने जेलों में कैदियों की संख्या कम करने के लिए 4500 बंदियों को पैरोल पर छोड़ा है. लेकिन दूसरी तरफ एक महीने में करीब आठ हजार नए कैदी जेल पहुंचे हैं. इससे कैदियों की संख्या कम नहीं हुई, बल्कि जितने छोड़े थे उससे ज़्यादा जेल में पहुंच गए हैं. अभी भी स्थिति जस की तस बनी हुई है. दूसरी लहर के दौरान प्रदेश की जेलों में 300 कैदी संक्रमित हुए हैं.

ये है जेलों में व्यवस्था…
जेलों में संक्रमण रोकने के लिए गाइडलाइन भी जारी की गई है. इस गाइडलाइन के तहत कैदियों की जांच जरूरी है. कोरोना संक्रमण के सिम्टम होने पर उन्हें 15 दिन के लिए आइसोलेट किया जाता है. जेलों में आने वाले नए कैदियों की भी जांच की जाती है. उन्हें भी 15 दिन के लिए आइसोलेशन में रखा जाता है. इसके अलावा अस्थाई जेल बनाई गई है. वहां पर नए कैदियों को रखने की व्यवस्था की गई है. इसके अलावा समय-समय पर कैदियों का चैकअप भी किया जा रहा है. उन्हें आयुर्वेदिक काढ़ा और जरूरी दवाइयां सप्लाई की जा रही हैं. लेकिन जब पूरे देश में कोरोना फैल रहा है तो फिर जेलें और कैदी कैसे बच सकते हैं.









Source link

Author: riteshkucc01

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *