Health: समझिए, मानसिक तौर पर स्वस्थ्य रहना क्यो जरुरी हैं ? 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


डिजिटल डेस्क,मुंबई। जल्द ही कोरोना वायरस की तीसरी लहर दस्तक देने वाली है, जिसको लेकर मानसिक तनाव, चिंता और डेली रूटीन का प्रभावित होना आम बात है। वहीं विशेषज्ञों का कहना है कि आज, मिलेनियल्स वर्चुअली वास्तविक दुनिया का अनुभव कर रहे हैं, और यह उनके मानसिक स्वास्थ्य पर प्रभाव डाल रहा है। 2020 ने कई लोगों को वर्क प्लेस में मेंटल हेल्थ से सम्बंधित समस्याओं से जूझने के लिए मजबूर किया। दरअसल, कुछ देशों में टीकाकरण के बढ़ते स्तर और अर्थव्यवस्थाओं के फिर से खुलने के बावजूद, ‘डेलॉइट ग्लोबल 2021 मिलेनियल और जेन ज़ी’ सर्वे से पता चलता है कि इस साल तनाव और चिंता का स्तर काफी बढ़ा है।

डेलॉइट ग्लोबल की रिसर्च से पता चला है कि, मिलेनियल्स और जेन जेड ने सर्वेक्षण में कहा कि महामारी ने तनाव और चिंता को बढ़ाने का काम किया है। अब जानकारी थोड़ी विस्तृत तरीके से देते है। 

मेंटल हेल्थ क्या होता है?


मेंटल हेल्थ में हमारा भावनात्मक, मनोवैज्ञानिक और सामाजिक कल्याण शामिल है। यह प्रभावित करता है कि हम कैसे सोचते हैं, क्या महसूस करते हैं और कैसे काम करते हैं। यह निर्धारित करने में भी मदद करता है कि हम तनाव को कैसे संभालते हैं, दूसरों से कैसे जुड़ते हैं। बचपन और किशोरावस्था से लेकर युवावस्था तक, जीवन के हर चरण में मानसिक स्वास्थ्य बहुत महत्वपूर्ण है। अगर आप मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं से जूझ रहे हैं, तो आपकी सोच, मनोदशा और व्यवहार प्रभावित हो सकते हैं। आपका मेंटल हेल्थ कई बातों पर निर्भर रहता है, जैसे, जीवन के अनुभव या मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं का पारिवारिक इतिहास। 

मानसिक स्वास्थ्य खराब होने के संकेत

  • चिंतित महसूस करना- हम सभी समय-समय पर चिंतित या तनाव में रहते हैं। लेकिन चिंता मेंटल हेल्थ प्रॉब्लम का एक संकेत हो सकता है। चिंता के अन्य लक्षणों में दिल की धड़कन, सांस की तकलीफ, सिरदर्द, पसीना, कांपना, चक्कर आना, बेचैनी, दस्त शामिल हो सकते हैं।
  • दुखी महसूस करना- अधिक समय से उदास या चिड़चिड़ा रहना, मोटिवेशन या एनर्जी की कमी महसूस करना, रुचि खोना या हर समय थके रहना भी बिगड़ते मेंटल हेल्थ की निशानी हो सकती है। 
  • इमोशनल आउटबर्स्ट- हर किसी का मूड अलग-अलग होता है, लेकिन मूड में अचानक बदलाव जैसे परेशानी या गुस्सा, मानसिक बीमारी का लक्षण हो सकता है।
  • नींद की समस्या- नींद के पैटर्न में बदलाव गिरते मानसिक स्वास्थ्य का लक्षण हो सकता है। अधिक या बहुत कम सोना, स्ट्रेस या नींद की बीमारी का संकेत हो सकता है।

The SSVP and the World Mental Health Day | SSVP Global

मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के तरीके

  • लोगो के साथ जुड़े। उनसे अपनी मन की बात शेयर करें।
  • सक्रिय बनें
  • शोध से पता चला है कि नई स्किल्स सीखने से आपके मानसिक स्वास्थ्य में सुधार हो सकता है।
  • योग-अभ्यास का प्रयास करें।
  • अच्छी डाईट लें। 

 



Source link

Author: riteshkucc01

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *