हिमाचल की चोटियों पर बर्फबारी, लाहौल के भिंगी में हिमस्खलन से मार्ग बाधित

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


अमर उजाला नेटवर्क, शिमला/उदयपुर ( लाहौल-स्पीति)
Published by: Krishan Singh
Updated Thu, 29 Apr 2021 07:26 PM IST

सार

दो मई को अंधड़ और भारी बारिश का येलो अलर्ट जारी हुआ है। मैदानी जिलों में तीन मई तक मौसम साफ रहने के आसार हैं। चार और पांच मई को मैदानी जिलों में बादल बरसने का पूर्वानुमान है। 

भिंगी नाला में हिमस्खलन
– फोटो : अमर उजाला

ख़बर सुनें

हिमाचल प्रदेश में गुरुवार को मौसम में अचानक आए बदलाव से चोटियों पर ताजा बर्फबारी और कुल्लू, मनाली और हमीरपुर में बारिश हुई। कई जिलों में शाम के समय अंधड़ भी चला। राजधानी शिमला में दोपहर बाद बादल छाए रहे। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला ने शुक्रवार से पांच मई तक मध्य और उच्च पर्वतीय आठ जिलों में बारिश और बर्फबारी के आसार जताए है। दो मई को अंधड़ और भारी बारिश का येलो अलर्ट जारी हुआ है। मैदानी जिलों में 3 मई तक मौसम साफ रहने के आसार हैं। 4 और 5 मई को मैदानी जिलों में बादल बरसने का पूर्वानुमान है। उधर, 22 से 28 अप्रैल तक प्रदेश में सामान्य से 137 फीसदी अधिक बारिश दर्ज हुई। इस अवधि में प्रदेश भर में 37.4 मिलीमीटर बारिश हुई।

कुल्लू के साथ मनाली में बूंदाबांदी हुई। रोहतांग दर्रा के साथ मनाली और लाहौल-स्पीति की पहाड़ियों में बर्फ के फाहे गिरे। हमीरपुर के धनेटा में जोरदार बारिश हुई। कांगड़ा जिले के कई क्षेत्रों में शाम के समय अंधड़ चला। गुरुवार को लगातार दूसरे दिन ऊना का अधिकतम तापमान 40.7 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड हुआ।  बिलासपुर में अधिकतम तापमान 37.0, हमीरपुर में 36.3, कांगड़ा में 36.1, नाहन में 35.4, मंडी में 35.1, सोलन में 33.0, चंबा में 32.6, भुंतर में 31.0, धर्मशाला में 28.4, शिमला में 26.0, डकल्पा में 20.0 और केलांग में 11.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ। 

उधर, जनजातीय जिला लाहौल-स्पीति में मनाली-लेह मार्ग समेत अन्य सड़कों में हिमस्खलन का क्रम जारी है।  उदयपुर उपमंडल के तहत आने वाली उदयपुर-तिगरेट सड़क के भिंगी नाला में हिमस्खलन हुआ है। हिमस्खलन से किसी प्रकार के जानमाल का नुकसान नहीं हुआ है। सड़क यातायात के लिए बाधित हो गई है। ऐसे में इस सड़क वाहनों के पहिये थम गए हैं। 
हिमस्खलन की सूचना मिलते ही लोक निर्माण विभाग की मशीनरी भी सड़क से बर्फ हटाने में जुट गई है।

हालांकि सड़क को अभी तक सड़क यातायात के लिए बहाल नहीं किया जा सका है। ऐसे में लोगों की मुश्किलें बढ़ गई हैं। बताया जा रहा है कि गुरुवार सुबह के समय अचानक पहाड़ी से हिमस्खलन हुआ। गनीमत रही कि हिमस्खलन की चपेट में कोई वाहन नहीं आया। अन्यथा बड़ा हादसा हो सकता था। इस संबंध में लोक निर्माण विभाग के सहायक अभियंता केडी कश्यप ने कहा कि लोक निर्माण विभाग ने बर्फ के मलबे को हटाने के लिए डोजर भिंगी नाला में भेज दिए हैं। जल्द ही बर्फ को हटाकर सड़क वाहनों की आवाजाही के लिए खोल दी जाएगी। 

विस्तार

हिमाचल प्रदेश में गुरुवार को मौसम में अचानक आए बदलाव से चोटियों पर ताजा बर्फबारी और कुल्लू, मनाली और हमीरपुर में बारिश हुई। कई जिलों में शाम के समय अंधड़ भी चला। राजधानी शिमला में दोपहर बाद बादल छाए रहे। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला ने शुक्रवार से पांच मई तक मध्य और उच्च पर्वतीय आठ जिलों में बारिश और बर्फबारी के आसार जताए है। दो मई को अंधड़ और भारी बारिश का येलो अलर्ट जारी हुआ है। मैदानी जिलों में 3 मई तक मौसम साफ रहने के आसार हैं। 4 और 5 मई को मैदानी जिलों में बादल बरसने का पूर्वानुमान है। उधर, 22 से 28 अप्रैल तक प्रदेश में सामान्य से 137 फीसदी अधिक बारिश दर्ज हुई। इस अवधि में प्रदेश भर में 37.4 मिलीमीटर बारिश हुई।

कुल्लू के साथ मनाली में बूंदाबांदी हुई। रोहतांग दर्रा के साथ मनाली और लाहौल-स्पीति की पहाड़ियों में बर्फ के फाहे गिरे। हमीरपुर के धनेटा में जोरदार बारिश हुई। कांगड़ा जिले के कई क्षेत्रों में शाम के समय अंधड़ चला। गुरुवार को लगातार दूसरे दिन ऊना का अधिकतम तापमान 40.7 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड हुआ।  बिलासपुर में अधिकतम तापमान 37.0, हमीरपुर में 36.3, कांगड़ा में 36.1, नाहन में 35.4, मंडी में 35.1, सोलन में 33.0, चंबा में 32.6, भुंतर में 31.0, धर्मशाला में 28.4, शिमला में 26.0, डकल्पा में 20.0 और केलांग में 11.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ। 

उधर, जनजातीय जिला लाहौल-स्पीति में मनाली-लेह मार्ग समेत अन्य सड़कों में हिमस्खलन का क्रम जारी है।  उदयपुर उपमंडल के तहत आने वाली उदयपुर-तिगरेट सड़क के भिंगी नाला में हिमस्खलन हुआ है। हिमस्खलन से किसी प्रकार के जानमाल का नुकसान नहीं हुआ है। सड़क यातायात के लिए बाधित हो गई है। ऐसे में इस सड़क वाहनों के पहिये थम गए हैं। 

हिमस्खलन की सूचना मिलते ही लोक निर्माण विभाग की मशीनरी भी सड़क से बर्फ हटाने में जुट गई है।

हालांकि सड़क को अभी तक सड़क यातायात के लिए बहाल नहीं किया जा सका है। ऐसे में लोगों की मुश्किलें बढ़ गई हैं। बताया जा रहा है कि गुरुवार सुबह के समय अचानक पहाड़ी से हिमस्खलन हुआ। गनीमत रही कि हिमस्खलन की चपेट में कोई वाहन नहीं आया। अन्यथा बड़ा हादसा हो सकता था। इस संबंध में लोक निर्माण विभाग के सहायक अभियंता केडी कश्यप ने कहा कि लोक निर्माण विभाग ने बर्फ के मलबे को हटाने के लिए डोजर भिंगी नाला में भेज दिए हैं। जल्द ही बर्फ को हटाकर सड़क वाहनों की आवाजाही के लिए खोल दी जाएगी। 



Source link

Author: riteshkucc01

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *