सुवेंदु अधिकारी और उनके भाई पर राहत सामग्री चुराने का आरोप, केस दर्ज

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


सुवेंदु अधिकारी (फ़ाइल फोटो)

TMC Vs BJP: सुवेंदु अधिकारी पिछले साल नवंबर तक ममता बनर्जी की कैबिनेट में मंत्री थे. वो दिसंबर 2020 में बीजेपी में शामिल हुए थे. हाल के दिनों में ममता बनर्जी और सुवेंदु अधिकारी के बीच जमकर ज़बानी जंग देखी गई है.

कोलकाता. पश्चिम बंगाल में बीजेपी नेता सुवेंदु अधिकारी (Suvendu Adhikari) और उनके भाई के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है. आरोप है कि इन दोनों ने कांठी नगरपालिका से राहत सामग्री चुराई. पुलिस के मुताबिक, अधिकारी भाइयों के खिलाफ रत्नदीप मन्ना की शिकायत पर FIR दर्ज की गई है. रत्नदीप कांठी नगर प्रशासनिक बोर्ड के सदस्य हैं. आरोप ये भी है कि सुवेंदु अधिकारी ने इस कथित चोरी में सशस्त्र केंद्रीय बलों का भी इस्तेमाल किया.

रत्नदीप मन्ना ने ये FIR एक जून को कांठी पुलिस स्टेशन में दर्ज कराई. FIR में लिखा है- ’29 मई 2021 को दोपहर 12:30 बजे सुवेंदु अधिकारी, उनके भाई और कांठी नगर पालिका के पूर्व नगर प्रमुख के कहने पर सरकारी तिरपाल चोरी कर ली. इसकी कीमत लाखों में है. ये तिरपाल नगर पालिका कार्यालय के गोदाम से जबरदस्ती ले जाया गया. साथ ही ताला तोड़ा गया.’

ये भी पढ़ें:- यूपी में तैयार हो रही है BJP विधायकों की परफॉर्मेंस रिपोर्ट, इनको मिलेगा टिकट

बता दें कि सुवेंदु अधिकारी पिछले साल नवंबर तक ममता बनर्जी की कैबिनेट में मंत्री थे. वो दिसंबर 2020 में बीजेपी में शामिल हुए थे. वो फिलहाल राज्य विधानसभा में विपक्ष के नेता हैं. विधानसभा चुनाव में उन्होंने ममता को नंदीग्राम से कड़े मुकाबले में हराया था.

आरोप-प्रत्यारोप

हाल के दिनों में ममता बनर्जी और सुवेंदु अधिकारी के बीच जमकर ज़बानी जंग देखी गई है. सुवेंदु के पिता सीसिर कुमार अधिकारी कांठी से टीएमसी के सांसद है. ममता बनर्जी ने उन पर दीघा शंकरपुर विकास प्राधिकरण (डीएसडीए) के सौंदर्यीकरण कार्य के दौरान फंड की हेराफेरी और खराब काम का आरोप लगाया है. जनवरी 2021 तक सीसिर डीएसडीए के चेयरमैन थे. उनके बेटे सुवेंदु अधिकारी के भाजपा में शामिल होने के महीनों बाद, पार्टी लाइन के खिलाफ राजनीतिक बयान देने के लिए उन्हें बनर्जी ने हटा दिया था.









Source link

Author: riteshkucc01

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *