लखनऊ में पकड़े गए आतंकवादियों के प्रयागराज से भी जुड़े हैं तार

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


अमर उजाला नेटवर्क, प्रयागराज
Published by: विनोद सिंह
Updated Thu, 15 Jul 2021 11:48 PM IST

ख़बर सुनें

लखनऊ में गिरफ्तार गजवा-तुल-हिंद के दो आतंकी मुशीर और मिनहाज के तार प्रयागराज से भी जुड़ने की चर्चा है। कहा जा रहा है कि दोनों से पूछताछ मेें यह बात सामने आई है उनके संपर्क में कुछ छात्र भी थे जिनमें से दो जिले में स्थित इंजीनियरिंग कॉलेज के हैं। फिलहाल उन छात्रों का कोई पता नहीं चल सका है। हालांकि पुलिस अफसर ऐसी किसी जानकारी से इंकार कर रहे हैं। 

चर्चाओं को सच मानें तो एटीएस की एक टीम ने बुधवार को शहर आकर इस मामले में जांच पड़ताल भी की। हालांकि कॉलेज प्रशासन छात्रों के बारे में कोई जानकारी नहीं दे सका। उनके नंबर भी बंद हैं। दरअसल लखनऊ में पकड़े गए दोनों आतंकियों से पूछताछ में यह बात भी सामने आई थी कि उनके संपर्क में पढ़े लिखे व प्रोफेशनल्स भी हैं। इनमें तकनीकी संस्थानों के कुछ छात्र भी शामिल हैं।

जिसके बाद कानपुर व प्रयागराज स्थित दो इंजीनियरिंग कॉलेज के कुल आठ छात्रों के नाम सामने आए थे। यह भी कहा जा रहा है कि यह छात्र आतंकी संगठनों के लिए स्लीपर सेल के तौर पर काम करते हैं और तकनीकी रूप से दक्ष होने के कारण तकनीक का सहारा लेकर आतंकी संगठनों की मंशा में उनका साथ देते हैं। हालांकि जिले के पुलिस अफसर इस मामले में कोई भी जानकारी होने से इंकार कर रहे हैं। डीआईजी सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी का कहना है कि उन्हें ऐसी कोई जानकारी नहीं है।

विस्तार

लखनऊ में गिरफ्तार गजवा-तुल-हिंद के दो आतंकी मुशीर और मिनहाज के तार प्रयागराज से भी जुड़ने की चर्चा है। कहा जा रहा है कि दोनों से पूछताछ मेें यह बात सामने आई है उनके संपर्क में कुछ छात्र भी थे जिनमें से दो जिले में स्थित इंजीनियरिंग कॉलेज के हैं। फिलहाल उन छात्रों का कोई पता नहीं चल सका है। हालांकि पुलिस अफसर ऐसी किसी जानकारी से इंकार कर रहे हैं। 

चर्चाओं को सच मानें तो एटीएस की एक टीम ने बुधवार को शहर आकर इस मामले में जांच पड़ताल भी की। हालांकि कॉलेज प्रशासन छात्रों के बारे में कोई जानकारी नहीं दे सका। उनके नंबर भी बंद हैं। दरअसल लखनऊ में पकड़े गए दोनों आतंकियों से पूछताछ में यह बात भी सामने आई थी कि उनके संपर्क में पढ़े लिखे व प्रोफेशनल्स भी हैं। इनमें तकनीकी संस्थानों के कुछ छात्र भी शामिल हैं।

जिसके बाद कानपुर व प्रयागराज स्थित दो इंजीनियरिंग कॉलेज के कुल आठ छात्रों के नाम सामने आए थे। यह भी कहा जा रहा है कि यह छात्र आतंकी संगठनों के लिए स्लीपर सेल के तौर पर काम करते हैं और तकनीकी रूप से दक्ष होने के कारण तकनीक का सहारा लेकर आतंकी संगठनों की मंशा में उनका साथ देते हैं। हालांकि जिले के पुलिस अफसर इस मामले में कोई भी जानकारी होने से इंकार कर रहे हैं। डीआईजी सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी का कहना है कि उन्हें ऐसी कोई जानकारी नहीं है।



Source link

Author: riteshkucc01

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *