मुकेश अंबानी करने जा रहे हैं एक और खरीददारी, डायल करेंगे 8888888888

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


मुंबई: मुकेश अंबानी की अगुवाई वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज (आरआईएल) 6500 करोड़ रुपये से अधिक में Justdial में बहुमत हिस्सेदारी खरीदने के लिए बातचीत कर रही है. यह एक ऐसा कदम है जो आरआईएल को 25 साल पुरानी लिस्टिंग कंपनी के मर्चेंट डेटाबेस तक पहुंच प्रदान करेगा और स्थानीय वाणिज्य और भुगतान सेगमेंट में इसकी उपस्थिति बढ़ाएगा.

Justdial के शेयरों ने बुधवार को अपने 52-सप्ताह के उच्च स्तर 1138 रुपये को छू लिया और शुक्रवार को प्रस्तावित बोर्ड की बैठक से पहले गुरुवार को 2.5% बढ़कर 1107 रुपये पर बंद हुआ, आरआईएल द्वारा अधिग्रहण की बातचीत पर कंपनी का मूल्य 6893.6 करोड़ रुपये था. यह समाचार उन खबरों के बाद आया जिनमें कहा गया था कि Justdial टाटा संस के साथ टाटा डिजिटल के सुपर ऐप में हिस्सेदारी के बारे में बात कर रहा है.

शुक्रवार को होगी कंपनी के बोर्ड की बैठक 
फंड जुटाने के प्रस्तावों पर विचार करने और मूल्यांकन करने के लिए कंपनी का बोर्ड शुक्रवार को बैठक करेगा, जिसमें खरीद के लिए रिलायंस का प्रस्ताव शामिल हो सकता है. बोर्ड के प्रस्ताव को मंजूरी मिलने पर बैठक के बाद इसकी घोषणा किए जाने की संभावना है.

150 मिलियन औसत त्रैमासिक यूनीक विजिटर्स के साथ, Justdial स्थानीय सर्च इंजन सेगमेंट में मार्केट लीडर है. कंपनी 8888888888 नंबर के साथ मोबाइल, ऐप, वेबसाइट और एक फोन हॉटलाइन पर काम करती है.

एक्सचेंज द्वारा मांगे गए स्पष्टीकरण के जवाब में, जस्ट डायल ने कहा, “हम मीडिया की अटकलों पर टिप्पणी नहीं करते हैं, और जब भी बोर्ड द्वारा किसी भी प्रस्ताव पर विचार किया जाता है वो डिस्क्लोजर की गारंटी देता है, तो कंपनी सेबी नियमों के तहत डिस्क्लोजर दायित्वों का अनुपालन करती है. सेबी लिस्टिंग विनियमों और स्टॉक एक्सचेंजों के साथ हमारे समझौतों के तहत हमाने दायित्वों के अनुपालन में आवश्यक डिस्क्लोजर किया है और करना जारी रखेंगे.”

अतिरिक्त हिस्सेदारी हासिल करना चाहता है आरआईएल
कंपनी में मैनेजिंग डायरेक्टर वीएसएस मणि और उनके परिवार की 35.5 फीसदी हिस्सेदारी है जिसकी मौजूदा वैल्यू 2435 करोड़ रुपये है. आरआईएल कंपनी में अतिरिक्त 26% हिस्सेदारी हासिल करने के लिए एक खुली पेशकश की घोषणा कर सकती है, जिसमें प्रमोटर की अधिकांश हिस्सेदारी प्राप्त करने के बाद 4000 करोड़ रुपये से अधिक का भुगतान करना होगा. हालांकि, वीएसएस मणि और परिवार के कंपनी में अल्पमत हिस्सेदारी बनाए रखने की संभावना है.

Justdial ने वित्त वर्ष २०११ में 675.18 करोड़ रुपये के राजस्व पर 214.19 करोड़ रुपये का लाभ दर्ज किया. सौदे पर जवाब मांगने के लिए आरआईएल को भेजे गए एक ई-मेल का खबर लिखे जाने तक जवाब नहीं मिल सका. विश्लेषकों का मानना है कि Justdial भारत के सबसे पुराने इनफॉर्मेशन सर्च के विशाल डेटाबेस की वजह से रिलायंस की खुदरा शाखा के लिए एक रणनीतिक रुप से फिट रहेगा.

यह भी पढ़ें:

Gold Price Today: सोने-चांदी का भाव चढ़ा, जानें आपके शहर में आज 10 ग्राम सोने की कीमत क्या है

Central Government DA Hike: DA बढ़ने से कितने परिवारों में बरसेंगे पैसे, सरकार पर पड़ेगा इतने करोड़ का बोझ



Source link

Author: riteshkucc01

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *