भारत को 2021 तक मिल सकता है पहला 5G कनेक्शन, 2026 तक होंगे 35 करोड़ यूजर: रिपोर्ट में दावा


2026 तक भारत में 35 करोड़ और दुनियाभर में होंगे 3.5 अरब 5G कनेक्शन

दूरसंचार कंपनी एरिक्सन (Ericsson) ने अपनी एक रिपोर्ट में दावा किया है कि साल 2026 तक दुनिया भर में 3.5 अरब 5G कनेक्शन होंगे, जबकि भारत में इनकी संख्या करीब 35 करोड़ होगी.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    December 1, 2020, 9:25 AM IST

नई दिल्ली. दूरसंचार कंपनी एरिक्सन (Ericsson) ने अपनी एक रिपोर्ट में दावा किया है कि साल 2026 तक दुनिया भर में 3.5 अरब 5G कनेक्शन होंगे, जबकि भारत में इनकी संख्या करीब 35 करोड़ होगी. एरिक्सन के नेटवर्क समाधान (दक्षिण पूर्व एशिया, ओशिनिया और भारत) के प्रमुख नितिन बंसल (Nitin Bansal) का कहना है कि यदि स्पेक्ट्रम नीलामी अगले साल की शुरुआत में हो गई तो भारत को उसका पहला 5जी कनेक्शन 2021 में मिल सकता है. एरिक्सन मोबिलिटी रिपोर्ट 2020 के मुताबिक, दुनियाभर में एक अरब लोग जो वैश्विक आबादी का 15 फीसदी हिस्सा हैं, उनकी 5G कवरेज तक पहुंच है.

रिपोर्ट के मुताबिक 2026 तक दुनिया की 60 प्रतिशत आबादी के पास 5जी सेवाओं की पहुंच होगी और उस समय तक 5जी ग्राहकों की संख्या बढ़कर 3.5 अरब होने का अनुमान है. भारत में 5जी ग्राहकों की संख्या उस समय तक 35 करोड़ के आंकड़े को पार कर जाएगी, जो कुल मोबाइल उपयोगकर्ताओं का 27 प्रतिशत हिस्सा होगा.

ये भी पढ़ें :देश में सबसे अधिक आय पंजाब के किसानों की, समझें बिहार यूपी फिसड्डी किस वजह से?

भारत को मिल सकता है पहला 5जी कनेक्शन 2021 तकबंसल ने कहा कि 5जी सेवाओं के लिए स्पेक्ट्रम नीलामी की घोषित समयसीमा के अनुसार भारत को उसका पहला 5जी कनेक्शन 2021 में मिल सकता है. रिपोर्ट के मुताबिक भारत में प्रति माह प्रति स्मार्टफोन यूजर औसत ट्रैफिक 15.7 GB है, जो दुनिया में सबसे अधिक है. रिपोर्ट में यह भी कहा गया कि 4जी 2020 में भारत में वर्चस्व वाली टेक्नोलॉजी बनी हुई है. कुल मोबाइल सब्सक्रिप्शंस में से 63 फीसदी 4जी हैं. 2026 तक 3जी ​के खत्म हो जाने का अनुमान है.

ये भी पढ़ें : अब गृह मंत्री अमित शाह ने बताया, कब कोरोना संकट से उबरकर पटरी पर लौटेगी Indian Economy

भारत में हो रही मंथली यूसेज में बढ़ोत्तरी
रिपोर्ट में कहा गया है कि 2020 में भारत में स्मार्टफोन सब्सक्रिप्शन बढ़कर 76 करोड़ हो गए हैं. इनके 2026 तक 7 फीसदी के सीएजीआर से बढ़कर 1.2 अरब के करीब पहुंच जाने की उम्मीद है. मोबाइल ब्रॉडबैंड सर्विसेज की कम कीमतें, सस्ते स्मार्टफोन और लोगों द्वारा ऑनलाइन अधिक वक्त बिताए जाने का भारत में मंथली यूसेज में बढ़ोत्तरी हो रही है.





Source link

Author: riteshkucc01

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *