बच्चों के लिए भी बन गई कोरोना की वैक्सीन, फाइजर और बायोएनटेक ने मांगी टीके की मंजूरी

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


कोरोना वायरस के चलते दुनियाभर लाखों लोगों की मौत हो गई. इस महामारी से एक साल के बाद भी दुनिया नहीं उबर पाई. हालांकि, अब दुनियाभर के देशों की वैक्सीन है कि जल्द से जल्द लोगों को वैक्सीन दी जाए. अमेरिका, ब्रिटेन और इजरायल समेत कई देशों में वैक्सीनेशन की रफ्तार बेहद तेज है. लेकिन, बच्चों में इस्तेमाल लेकर अभी तक किसी वैक्सीन की इजाजत नहीं दी गई है.

इस बीच, वैक्सीन  फाइजर और बायोएनटेक ने यूरोपीय संघ के दवा नियामकों से 12 से 15 साल की उम्र के बच्चों के लिए कंपनियों के कोरोना वायरस टीके को मंजूरी देने का अनुरोध किया है. यह कदम यूरोप में युवा और कम जोखिम वाली आबादी की टीके तक पहुंच मुहैया करा सकता है.

 

दोनों कंपनियों ने शुक्रवार को एक बयान में कहा कि यूरोपियन मेडिसिन एजेंसी को उनकी अर्जी 2,000 से अधिक किशोरों पर किये गए एक उन्नत अध्ययन पर आधारित है, जिसमें टीका सुरक्षित और प्रभावी होने का पता चला था. बच्चों पर और दो साल के लिए दीर्घकालिक सुरक्षा के लिए निगरानी की जाएगी.

 

फाइजर और बायोएनटेक ने पहले अनुरोध किया था कि यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन के साथ उनकी आपातकालीन उपयोग की अनुमति 12-15 वर्ष के बच्चों के लिए भी विस्तारित की जाए. जर्मनी के स्वास्थ्य मंत्री जेंस स्पाहन ने इस खबर का स्वागत किया कि टीके को अधिक आयु के बच्चों के लिए मंजूरी मिल सकती है.

 

फाइजर और बायोएनटेक द्वारा बनाया गया कोविड-19 टीका पहला टीका था जिसे गत दिसंबर में ईएमए द्वारा हरी झंडी दिखायी गई थी जब इसे 16 साल और इससे अधिक आयु के लोगों और 27-देशों के यूरोपीय संघ में इस्तेमाल के लिये लाइसेंस दिया गया था.

ये भी पढ़ें: Pfizer के सीईओ ने कहा- कोविड-19 इलाज के लिए कंपनी की ओरल दवा अगले साल तक हो सकती है तैयार



Source link

Author: riteshkucc01

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *