दिल्ली पुलिस की अनोखी पहल, अस्पतालों को कोरोना मरीजों के इलाज के लिए दी जब्त की गई रेमडेसिविर की 86 शीशियां

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


नई दिल्लीः दिल्ली पुलिस ने कोविड-19 मरीजों के इलाज में काम आने वाली जब्त की गई रेमडेसिविर की 80 से ज्यादा शीशियां, अन्य दवाएं और चिकित्सा उपकरण विभिन्न अस्पतालों को दिए है. पुलिस ने सोमवार को बताया कि राष्ट्रीय राजधानी में विभिन्न छापों में दवाओं, चिकित्सा उपकरणों को जब्त किया था.

अस्पतालों को दी गई जब्त की गई 86 रेमडेसिविर 

पुलिस की ओऱ से जारी किए गए बयान के अनुसार, संजय गांधी मेमोरियल अस्पताल, बीएसए अस्पताल, दीपचंद बंधु अस्पताल, पार्क अस्पताल, कैलाश अस्पताल, सीडीएमओ, छत्तरपुर के तेरापंथ, रोहिणी कोविड केयर सेंटर और डीडीएमए उत्तर सहित विभिन्न अस्पतालों को रेमडेसिविर की 86 शीशियां दी गयी हैं.

दीपचंद बंधु अस्पताल को मिली फेवीपीरावीर की दवा

उत्तरी दिल्ली के उपायुक्त के आदेश पर दीपचंद बंधु अस्पताल को फेवीपीरावीर की 90 गोलियां दी गयी हैं. पुलिस ने बताया कि रेमडेसिविर की और 100 शीशियों को जारी करने की प्रक्रिया चल रही है. बयान के अनुसार, डीडीएमए (पश्चिम), सीडीएमओ तेरापंथ अंसारी अस्पताल, वर्ल्ड ब्रेन सेंटर अस्पताल, आर्य अस्पताल और भगत चन्द्र अस्पताल को ऑक्सीजन के 70 सिलेंडर जारी किए गए हैं. बयान के अनुसार, ऑक्सीजन के 140 और सिलेंडरों को जारी करने की प्रक्रिया चल रही है.

देश में 2 करोड़ के पार संक्रमितों का आंकड़ा

बता दें कि भारत कोरोना वायरस संक्रमित देशों की लिस्ट में दूसरे स्थान पर है. जहां कोरोना संक्रमण के मामले बढ़कर 2 करोड़ के आंकड़े के पार पहुंच गए हैं. भारत में कुल संक्रमितों की संख्या अब दो करोड़ दो लाख 37 हजार के पार पहुंच गई है. वहीं अब देशभर में तकरीबन दो लाख 21 हजार से ज्यादा कोरोना संक्रमितों की मौत भी हुई है. फिलहाल एक करोड़ 65 लाख 62 हजार से ज्यादा लोग इलाज के बाद ठीक भी हुए हैं. वहीं वर्तमान में 34 लाख 53 हजार से ज्यादा कोरोना एक्टिव लोगों का इलाज किया जा रहा है.

 

इसे भी पढ़ेंः
राजस्थान: कूड़ा उठाने वाले वाहन में सांप्रदायिक ऑडियो चलाने के आरोप में दो गिरफ्तार

Corona vaccination: 18-44 आयुवर्ग के 2.15 लाख से अधिक लोगों को मिली पहली खुराक



Source link

Author: riteshkucc01

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *