जम्मू-कश्मीर: हरमुख पर्वत की तलहटी में स्थित गंगबल झील को साफ रखने के लिए सेना ने संभाला मोर्चा

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, जम्मू
Published by: प्रशांत कुमार
Updated Thu, 15 Jul 2021 03:29 PM IST

सार

गंगबल झील से जुड़ी मान्यता-
गंगबल झील को भगवान शिव का निवास माना जाता है। राजसी हरमुख पर्वत की तलहटी में स्थित गंगबल झील लगभग 3.5 किमी लंबी, आधा किमी चौड़ी और 80 मीटर गहरी है।

गंगबल झील को साफ रखने के लिए सेना ने संभाला मोर्चा
– फोटो : अमर उजाला

ख़बर सुनें

34-असम राइफल्स ने नागरिक प्रशासन के साथ स्थानीय आबादी, पर्यटकों को गंगबल और उसके आसपास के कचरे को साफ रखने के बारे में जागरूक किया। साथ ही बताया कि यह कचरा उनके स्वास्थ्य और आजीविका को सीधे तौर पर कैसे प्रभावित करेगा।

गंगबल झील हरमुख पर्वत की तलहटी में स्थित है। यह जम्मू-कश्मीर के गांदरबल जिले में स्थित कश्मीर घाटी के आसपास की दूसरी सबसे ऊंची चोटी है। यह झील ब्राउन ट्राउट सहित मछलियों की कई प्रजातियों का घर भी कही जाती। यह नारानाग में पर्यटक गाइड और रेस्तरां के लिए आय का एक प्रमुख स्रोत भी है जो गंगबल आने वाले सभी पर्यटकों के लिए मिलन स्थल के रूप में कार्य करता है। पर्यटकों की भारी आमद के कारण यह क्षेत्र कचरे से भर गया है जो क्षेत्र की पारिस्थितिकी और आकर्षण दोनों के लिए खतरा है।

सभी उपस्थित लोगों को जल शक्ति अभियान के तहत जल निकायों और आसपास के क्षेत्रों को साफ रखने और सतत प्रयास की शपथ दिलाई गई। इस दौरान कर्तव्य की भावना पैदा करने के लिए सभी परिचारकों द्वारा राष्ट्रगान गाया गया। इस अभियान का लक्ष्य 30 नवंबर 2021 तक गंगबल और आसपास के क्षेत्र को साफ करना है।

इस मौके पर एसडीएम कंगन हकीम तनवीर, तहसीलदार कंगन अब्दुल मजीद राथर, एसडीपीओ कंगन यासिर कादरी, बीडीओ कंगन एमडी अकबर नागरिक प्रशासन के साथ ही अन्य गणमान्य व्यक्ति शामिल थे। सभी ने बटालियन द्वारा उठाए गए कदम की सराहना की।

यह भी पढ़ें- टूट रही हैं कट्टरता की जंजीरें: विकासपथ पर घाटी की महिलाएं, इन हाथों में छिपी है बदलते कश्मीर की कहानी    

 

विस्तार

34-असम राइफल्स ने नागरिक प्रशासन के साथ स्थानीय आबादी, पर्यटकों को गंगबल और उसके आसपास के कचरे को साफ रखने के बारे में जागरूक किया। साथ ही बताया कि यह कचरा उनके स्वास्थ्य और आजीविका को सीधे तौर पर कैसे प्रभावित करेगा।

गंगबल झील हरमुख पर्वत की तलहटी में स्थित है। यह जम्मू-कश्मीर के गांदरबल जिले में स्थित कश्मीर घाटी के आसपास की दूसरी सबसे ऊंची चोटी है। यह झील ब्राउन ट्राउट सहित मछलियों की कई प्रजातियों का घर भी कही जाती। यह नारानाग में पर्यटक गाइड और रेस्तरां के लिए आय का एक प्रमुख स्रोत भी है जो गंगबल आने वाले सभी पर्यटकों के लिए मिलन स्थल के रूप में कार्य करता है। पर्यटकों की भारी आमद के कारण यह क्षेत्र कचरे से भर गया है जो क्षेत्र की पारिस्थितिकी और आकर्षण दोनों के लिए खतरा है।

सभी उपस्थित लोगों को जल शक्ति अभियान के तहत जल निकायों और आसपास के क्षेत्रों को साफ रखने और सतत प्रयास की शपथ दिलाई गई। इस दौरान कर्तव्य की भावना पैदा करने के लिए सभी परिचारकों द्वारा राष्ट्रगान गाया गया। इस अभियान का लक्ष्य 30 नवंबर 2021 तक गंगबल और आसपास के क्षेत्र को साफ करना है।

इस मौके पर एसडीएम कंगन हकीम तनवीर, तहसीलदार कंगन अब्दुल मजीद राथर, एसडीपीओ कंगन यासिर कादरी, बीडीओ कंगन एमडी अकबर नागरिक प्रशासन के साथ ही अन्य गणमान्य व्यक्ति शामिल थे। सभी ने बटालियन द्वारा उठाए गए कदम की सराहना की।

यह भी पढ़ें- टूट रही हैं कट्टरता की जंजीरें: विकासपथ पर घाटी की महिलाएं, इन हाथों में छिपी है बदलते कश्मीर की कहानी    

 



Source link

Author: riteshkucc01

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *