छिंदवाड़ा:  कोरोना वैक्सीन लगाने से बिगड़ी महिला की हालत, ग्रामीणों ने स्वास्थ्य कर्मियों को बनाया बंधक 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, छिंदवाड़ा
Published by: Amit Mandal
Updated Mon, 13 Sep 2021 04:10 PM IST

कोरोना वैक्सीन (प्रतीकात्मक)
– फोटो : पीटीआई

ख़बर सुनें

मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा में एक महिला को कोरोना वैक्सीन लगाने के बाद उसकी हालत बिगड़ गई जिसके बाद यहां भारी हंगामा मच गया। गांव वालों ने स्वास्थ्य कर्मियों को गांव से जाने नहीं दिया और बंधक बना लिया। 

मामला छिंदवाड़ा जिले के गांव चिट्ठी बुढेना का है। रविवार को यहां करीब 55 लोगों का टीकाकरण किया गया जिसके बाद एक महिला की हालत बिगड़ गई। उसे उलटियां होने लगी हैं। इसके बाद ग्रामीणों ने हंगामा मचा दिया। 

इसकी जानकारी महिला स्वास्थ्य कर्मी, सीएचओ, और एएनएम को मिली तो वे गांव में महिला को देखने पहुंच गए। लगातार उल्टी होने की वजह से महिला का बीपी काफी डाउन हो गया था। स्वास्थ्य कर्मियों ने कहा कि दवा दे देते हैं, लेकिन ग्रामीण नहीं माने। ग्रामीणों का कहना था कि जब तक महिला ठीक नहीं हो जाती, आप लोग कही नहीं जाएंगे। 

इसे लेकर दोनों पक्षों में विवाद बढ़ गया। इसके बाद स्वास्थ्य कर्मियों ने एंबुलेंस सेवा को सूचना दी जो मौके पर पहुंच गई। फिर महिला को हरई सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र रेफर किया गया। इसके बाद भी गांव से ग्रामीण लोग स्वास्थ्य कर्मी को गांव से जाने नहीं दिया तो उन्होंने डायल 100 पर सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस के काफी समझाने के बाद ही स्वास्थ्य कर्मियों को वहां से जाने दिया गया। 

इस संबंध में मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी जीसी चौरसिया का कहना है कि गांव में शाम तक वैक्सीनेशन हो गया था। रात में महिला की तबियत बिगड़ गई जिसकी सूचना तुरंत सीएचओ और एएनएम को दी गई। महिला को 108 के माध्यम से अस्पताल में भर्ती करा दिया गया। कुछ लोगों को गलतफहमी हो गई थी कि वैक्सीन के कारण महिला की तबियत बिगड़ी है। 

मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा में एक महिला को कोरोना वैक्सीन लगाने के बाद उसकी हालत बिगड़ गई जिसके बाद यहां भारी हंगामा मच गया। गांव वालों ने स्वास्थ्य कर्मियों को गांव से जाने नहीं दिया और बंधक बना लिया। 

मामला छिंदवाड़ा जिले के गांव चिट्ठी बुढेना का है। रविवार को यहां करीब 55 लोगों का टीकाकरण किया गया जिसके बाद एक महिला की हालत बिगड़ गई। उसे उलटियां होने लगी हैं। इसके बाद ग्रामीणों ने हंगामा मचा दिया। 

इसकी जानकारी महिला स्वास्थ्य कर्मी, सीएचओ, और एएनएम को मिली तो वे गांव में महिला को देखने पहुंच गए। लगातार उल्टी होने की वजह से महिला का बीपी काफी डाउन हो गया था। स्वास्थ्य कर्मियों ने कहा कि दवा दे देते हैं, लेकिन ग्रामीण नहीं माने। ग्रामीणों का कहना था कि जब तक महिला ठीक नहीं हो जाती, आप लोग कही नहीं जाएंगे। 

इसे लेकर दोनों पक्षों में विवाद बढ़ गया। इसके बाद स्वास्थ्य कर्मियों ने एंबुलेंस सेवा को सूचना दी जो मौके पर पहुंच गई। फिर महिला को हरई सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र रेफर किया गया। इसके बाद भी गांव से ग्रामीण लोग स्वास्थ्य कर्मी को गांव से जाने नहीं दिया तो उन्होंने डायल 100 पर सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस के काफी समझाने के बाद ही स्वास्थ्य कर्मियों को वहां से जाने दिया गया। 

इस संबंध में मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी जीसी चौरसिया का कहना है कि गांव में शाम तक वैक्सीनेशन हो गया था। रात में महिला की तबियत बिगड़ गई जिसकी सूचना तुरंत सीएचओ और एएनएम को दी गई। महिला को 108 के माध्यम से अस्पताल में भर्ती करा दिया गया। कुछ लोगों को गलतफहमी हो गई थी कि वैक्सीन के कारण महिला की तबियत बिगड़ी है। 



Source link

Author: riteshkucc01

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *