छत्तीसगढ़ी कहानी- बगरत नवां अंजोर

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  



आंड़ी के कांड़ी कुछु करना नइ हे अउ चोक्खा ससुरार म पलना ओला बने लागथे. अइसन कतको मनखे हें जेन अलम-ठलमम अपन जिनगी पहवा देथें. कुछु कहिबे त दांत गिजोर देथें. आगू चलके इन ल सरकार पोसथे. सरकारी दमाद बन के जीना कतको झन बर बड़ गरब के बात होथे. सरकार त आखिर म सबे के घोषित दाई-ददा आय. काम-बुता करे बर सरम आथे.



Source link

Author: riteshkucc01

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *