क्या ढाई साल बाद भी शिक्षकों को नियुक्ति मिलेगी, जानिए सरकार क्या और कब से उठाने जा रही कदम

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


मध्य प्रदेश के शिक्षक बरसों से नियुक्ति का इंतजार कर रहे हैं. सरकार ने उन्हें ढाई साल पहले ही नियुक्ति दे सकती थी. (File)

मध्य प्रदेश के हजारों शिक्षक नौकरी करने के लिए तैयार बैठे हैं. सब-कुछ हो चुका बस नियुक्ति मिलनी बाकी है. लेकिन, ढाई साल से सरकार इन्हें अभी तक नियुक्ति नहीं द सकी.

  • Last Updated:
    June 6, 2021, 3:35 PM IST

भोपाल. मध्य प्रदेश में चयनित शिक्षकों की नियुक्ति प्रक्रिया अब तक अटकी हुई है. इन्हें नियुक्तियां देने के लिए अब तीसरी बार वेरिफिकेशन की प्रक्रिया की जा रही है. इससे पहले दो बार शिक्षकों के वेरिफिकेशन की प्रक्रिया टल चुकी है. 7 जून से पूरे महीने तक शिक्षकों का वेरिफिकेशन होगा. शिक्षको की नियुक्ति के लगभग ढाई साल बाद तीसरी बार ये वेरिफिकेशन की प्रक्रिया शुरू की जाएगी. वेरिफिकेशन के बाद शिक्षकों को नियुक्ति मिलने की उम्मीद है.

गौरतलब है कि वेरिफिकेशन के पहले दिन सिर्फ 10 शिक्षकों का वेरिफिकेशन होगा. रोज सिर्फ 20 शिक्षकों का ही वेरिफिकेशन होगा. प्रदेश में शिक्षक पात्रता परीक्षा वर्ग एक के लिए 12 हज़ार शिक्षकों की और शिक्षक पात्रता परीक्षा वर्ग 2 में 5 से 7 हज़ार शिक्षकों की भर्ती होनी है.

दो बार टल चुका है वेरिफिकेशन

शिक्षक पात्रता परीक्षा में चयनित शिक्षकों का वेरिफिकेशन इससे पहले दो बार टल चुका है. इस बार ये तीसरी बार शुरू किया जा रहा है.जुलाई में शिक्षकों का वेरिफिकेशन शुरू हुआ था. कुछ शिक्षकों के वेरिफिकेशन के बाद ही प्रक्रिया को बीच में रोक दिया गया था. इसी साल 1 अप्रैल से शिक्षकों का वेरिफिकेशन शुरू किया गया था.कोरोना के बढ़ते संक्रमण के चलते 15 अप्रैल से वेरिफिकेशन की प्रक्रिया को एक बार फिर रोक दिया गया था. अब तीसरी बार 7 जून से वेरिफिकेशन शुरू होने जा रहा है. चयनित शिक्षक इस बात को लेकर चिंतित हैं कि कम से कम तीसरी बार ही सही शिक्षकों के दस्तावेजों का सत्यापन पूरा कर लिया जाए. ताकि, जल्द से जल्द जॉइनिंग की प्रक्रिया शुरु हो सके…2011 के बाद 2018 में निकली नियुक्तियां

मध्यप्रदेश में साल 2011 के बाद 2018 में शिक्षकों की भर्ती निकली थी. 7 साल के लंबे इंतजार के बाद 2018 में भर्ती का विज्ञापन निकला था. शिक्षक पात्रता परीक्षा वर्ग 1 और वर्ग 2 की परीक्षा ली गई थी. इसमें 33000 शिक्षक चयनित हुए हैं. लगभग तीन साल होने के बाद भी अब तक चयनित शिक्षक अपनी नियुक्ति की राह देख रहे हैं. इनकी नियुक्ति प्रदेश में शिक्षकों की कमी वाले स्कूलों में होनी थी. लेकिन इनको नियुक्ति देने के बजाए सरकार अतिथि शिक्षकों से काम चला रही थी.

चयनित शिक्षकों ने ट्विटर पर चलाया अभियान 

स्कूल शिक्षा मित्र इंदर सिंह परमार ने कहा था कि शिक्षकों को जुलाई के महीने तक नियुक्तियां दी जाएंगी. लेकिन, दो बार वेरिफिकेशन टलने से शिक्षकों की उम्मीदों पर पानी फिर गया. ढाई साल से चयनित शिक्षक नियुक्ति  का इंतजार कर रहे हैं. नियुक्ति की मांग को लेकर चयनित शिक्षकों ने ट्विटर पर अभियान चलाया था. अभियान के बाद ही तीसरी बार वेरिफिकेशन की प्रक्रिया 7 जून से शुरू की जा रही है.









Source link

Author: riteshkucc01

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *