केरल में कोविड-19 के उपचाराधीन मरीजों की संख्या एक लाख से कम, 7893 नए मामले

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


तिरुवनंतपुरम. केरल (Kerala) में पांच महीने से ज्यादा समय बाद मंगलवार को उपचाराधीन मरीजों की संख्या एक लाख से घटकर 96,646 हो गई. केरल राज्य में मंगलवार को कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus Infection) के 7,823 नए मामले सामने आए तथा कोरोना महामारी (Corona epidemic) से 106 और मरीजों की मौत हो गई. एक आधिकारिक प्रेस विज्ञप्ति में यह जानकारी दी गई. विज्ञप्ति के के अनुसार नए मामलों के बाद कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 48,09,619 हो गई जबकि मृतकों की संख्या 26,448 पर पहुंच गई.

केरल में केंद्र और राज्‍य सरकार कोरोना के मामलों पर अंकुश लगाने के लिए बड़ा अभियान चला रहे हैं. गौरतलब है कि केरल में कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर की शुरुआत के दौरान उपचाराधीन मरीजों की संख्या एक लाख के पार पहुंच गई थी. राज्य में 19 अप्रैल को संक्रमण के 13,644 नए मामले सामने आए थे जिसके बाद उपचाराधीन मरीजों की संख्या एक लाख के आंकड़े को पार कर 1,07,330 हो गई थी. राज्‍य सरकार ने काफी विचार विमर्श के बाद सुरक्षा और नियंत्रण की दृष्टि से कई उपाय किए. वहीं केंद्र सरकार ने वैक्‍सीनेशन और कोरोना की जांच आदि के अभियान को गति दी.

ये भी पढ़ेें :   क्या सुलझेगा पंजाब कांग्रेस का संकट? पार्टी के सीनियर लीडर्स से मिलेंगे नवजोत सिंह सिद्धू

ये भी पढ़ें :  काबुल में सत्ता परिवर्तन बातचीत से नहीं हुआ और न ही ये समावेशी है: UNSC में भारत

अगस्त में ओणम के त्योहार के बाद दैनिक संक्रमितों की संख्या के 30 हजार के आंकड़े को पार करने के बाद नए मामलों में कमी आ रही थी. ऐसा कहा जा रहा है कि त्‍योहारों पर एक बार फिर भीड़ बढ़ सकती है और इससे कोरोना  संक्रमण के मामले  बढ़ सकते हैं. एक समय भारत के कुल कोरोना केसों में से आधे केरल से आ रहे थे. यहां पाजिटिविटी रेट भी सबसे अधिक हो गया था. विज्ञप्ति के अनुसार सोमवार के बाद से 12,490 और लोग संक्रमण से स्वस्थ हुए जिसके बाद कोविड को मात देने वालों की कुल संख्या बढ़कर 46,85,932 हो गई और उपचाराधीन मरीजों की संख्या घटकर 96,646 रह गई. पिछले 24 घंटों में 86,031 नमूनों की कोविड-19 जांच की गई.

केरल में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते ग्राफ के कारण का पता लगाने पहुंची केंद्र की हाईलेवल टीम ने कई चौंकाने वाली जानकारियां दी. टीम का कहना है कि राज्य में होम आइसोलेशन (Home Isolation) में रह रहे मरीजों की ठीक से निगरानी नहीं हो रही है, जिसके चलते मामले बढ़े हैं. इसके अलावा टीम ने बीमारी के सही प्रबंधन के लिए मरीजों को अस्पताल में भर्ती किए जाने की सलाह दी है. फिलहाल, टीम राज्य में ज्यादा पॉजिटिविटी रेट वाले जिलों का दौरा कर रही है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.



Source link

Author: riteshkucc01

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *