ऑक्सीजन पर केन्द्र के जवाब से भड़का विपक्ष, विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव लाएगा, BJP ने कहा- हमनें राज्यों का डेटा सदन में रखा 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  



डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। केन्द्र सरकार द्वारा कल (मंगलवार) कोरोनावायरस की दूसरी लहर में ऑक्सीजन की कमी से हुई मौतों पर जवाब दिया गया है। केन्द्र ने कहा की दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीजन की कमी से एक भी मौत नहीं हुई। सत्तापक्ष के इस जवाब से नाखुश विपक्ष ने जमकर हंगामा किया।

अब इस मुद्दे को लेकर आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह ने कहा कि इस संकट काल में सरकार ने देश को अनाथ छोड़ दिया था। सरकार को पता ही नहीं था कि क्या हो रहा है। AAP इस मुद्दे पर संसद में विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव पेश करेगी। वहीं, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने ट्वीट के जरिए बताया कि केन्द्र सरकार के मुताबिक देश में ऑक्सीजन की कमी से कोई मौत नहीं हुई है। मौतें इसलिए हुईं क्योंकि महामारी वाले साल में सरकार ने ऑक्सीजन निर्यात 700% तक बढ़ा दिया। क्योंकि सरकार ने ऑक्सीजन ट्रांसपोर्ट करने वाले टैंकरों की व्यवस्था नहीं की। 

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि सरकार का जवाब बिलकुल असत्य है। दिल्ली सहित देश के अन्य जगहों पर भी ऑक्सीजन की कमी हुई थी। हमने दिल्ली के भीतर ऑक्सीजन की कमी से होने वाली मौत को लेकर कमेटी बनाई थी, जिसको उपराज्यपाल ने नामंजूर कर दिया था, अगर वो कमेटी होती तो सही डाटा मिल जाता।

वहीं, शिवसेना सांसद संजय राउत ने भी स्वास्थ्य राज्यमंत्री के जवाब को लेकर सरकार पर सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने कहा कि सरकार के इस जवाब को सुनकर उन पर क्या गुजरी होगी जिन्होंने अपनों को खोया है। सरकार के खिलाफ मुकदमा दर्ज होना चाहिए। सरकार झूठ बोल रही है। 

वहीं,आज (बुधवार) भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने प्रेस में बताया कि किसी भी राज्य ने ऑक्सीजन की कमी को लेकर हुई मृत्यु पर कोई आंकड़ा नहीं भेजा। किसी ने ये नहीं कहा कि उनके राज्य में ऑक्सीजन की कमी को लेकर मौत हुई है। सदन में कल ऑक्सीजन की कमी से हुई मौत पर सवाल पूछा गया था। इस पर उत्तर जो दिया ,उस पर तीन चीजें ध्यान देने योग्य हैं। 
1-केंद्र कहती है कि स्वास्थ्य राज्यों का विषय है।
2-केंद्र कहती है कि हम सिर्फ राज्यों के भेजे डेटा को संग्रहित करते हैं।
3-हमने एक गाइडलाइन जारी किया है, जिसके आधार पर राज्य अपने मौत के आंकड़ों को रिपोर्ट कर सकें।





Source link

Author: riteshkucc01

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *