उत्तराखंड: बलूनी के ट्वीट से गरमाई सियासत, किशोर उपाध्याय के भाजपा में शामिल होने की चर्चाएं तेज

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, देहरादून
Published by: अलका त्यागी
Updated Mon, 13 Sep 2021 10:40 PM IST

सार

Uttarakhand Election 2022 :  बता दें कि पुरोला के विधायक राजकुमार के भाजपा में शामिल होने से पहले भी बलूनी ने ट्वीट किया था। उनके ट्वीट के बाद सियासी हलकों में राजकुमार के भाजपा में जाने की चर्चाएं शुरू हो गई थीं।

ख़बर सुनें

भाजपा के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी व उत्तराखंड से सांसद अनिल बलूनी के एक ट्वीट ने सोमवार को दिनभर उत्तराखंड की सियासत में हलचल मचाए रखी। बलूनी ने ट्वीट किया कि एक प्रख्यात व्यक्तित्व भाजपा मुख्यालय में पार्टी में शामिल होंगे। उनके इस ट्वीट के बाद प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय के दिल्ली में होने और उनके भाजपा में शामिल होने की चर्चाएं गरमाने लगीं। हालांकि मीडिया के लोगों ने जब किशोर से पूछा तो उन्होंने ऐसी किसी भी संभावना से साफ इनकार कर दिया।

उत्तराखंड चुनाव 2022: भाजपा की सेंध से कांग्रेस में हड़कंप, प्रीतम-हरीश और गोदियाल की दिल्ली दौड़

बता दें कि पुरोला के विधायक राजकुमार के भाजपा में शामिल होने से पहले भी बलूनी ने ट्वीट किया था। उनके ट्वीट के बाद सियासी हलकों में राजकुमार के भाजपा में जाने की चर्चाएं शुरू हो गई थीं। उनके भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर ली। कांग्रेस विधायक के भाजपा में जाने के बाद सियासी हलकों में कुछ और कांग्रेस नेताओं के पार्टी छोड़कर प्रदेश में सत्तारूढ़ दल का दामन थामने की चर्चाएं गरमा रही हैं।

सोमवार को एक बार फिर सांसद बलूनी ने एक और नेता के भाजपा में शामिल होने के बारे में एक ट्वीट किया। दोपहर बाद खबर आई कि भाजपा ज्वाइन करने वाले पूर्व राष्ट्रपति ज्ञानी जैल सिंह के पोते इंद्रजीत सिंह हैं। लेकिन चर्चाओं का बाजार अब भी थमा नहीं है। उधर, भाजपा के सूत्र भी किशोर के भाजपा में शामिल होने की संभावना से इनकार नहीं कर रहे हैं।

कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय के भाजपा में शामिल होने की चर्चाओं के पीछे हरिद्वार में दिया गया वह बयान है, जिसमें उन्होंने कहा कि कांग्रेस में उनके साथ न्याय नहीं हुआ। राज्यसभा भेजने से लेकर मंत्री बनाने तक, उनकी उपेक्षा हुई। उनके इस बयान को उनकी नाराजगी के तौर पर देखा जा रहा है। 

दिल्ली में होने से अटकलें रहीं तेज
किशोर उपाध्याय के सोमवार को दिल्ली में होने की चर्चाएं थीं। बलूनी ने ट्वीट किया तो सियासी हलकों में किशोर के नाम की अटकलें तेज हो गईं। दिन में कुछ मीडिया कर्मियों ने किशोर से बात की तो उन्होंने साफ इनकार कर दिया, लेकिन शाम को किशोर का फोन नहीं उठा।

दिनेश धनै के नाम की भी रही चर्चा
पूर्व कैबिनेट मंत्री दिनेश धनै की भी भाजपा में जाने की चर्चाओं ने जोर पकड़ा। धनै 2017 में टिहरी विधानसभा सीट से चुनाव हारे थे। किशोर भी टिहरी सीट से दावेदारी कर रहे हैं। इस सीट पर भाजपा के धन सिंह नेगी विधायक हैं।

कांग्रेस के कुछ और नेताओं पर भाजपा की नजर
भाजपा की कांग्रेस के कुछ और नेताओं पर नजर लगी है। पार्टी ने दो विधायकों को अपने पाले में लाकर कांग्रेसी खेमे में हलचल मचा रखी है। कुछ पूर्व विधायकों के भी पार्टी में शामिल होने की चर्चाएं हैं। पार्टी सूत्रों के मुताबिक, पार्टी ने बाहर से आने वाले लोगों के लिए पूरी तरह से दरवाजे खोल दिए गए हैं।

राजकुमार पुरोला से लड़ेंगे या राजपुर से
कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए पुरोला के विधायक राजकुमार कहां से चुनाव लड़ेंगे, यह सवाल दो विधानसभा क्षेत्रों में खूब गरमा रहा है। पुरोला से भाजपा के पूर्व विधायक मालचंद पिछले साढ़े चार साल से तैयारी कर रहे हैं। राजकुमार के पार्टी में आने से अब प्रश्न है कि पार्टी किस चेहरे पर वहां दांव लगाएगी। राजकुमार के राजपुर रोड विधानसभा सीट से टिकट की दावेदारी की चर्चाएं भी हैं। इस सीट पर भाजपा के खजान दास विधायक हैं।

विस्तार

भाजपा के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी व उत्तराखंड से सांसद अनिल बलूनी के एक ट्वीट ने सोमवार को दिनभर उत्तराखंड की सियासत में हलचल मचाए रखी। बलूनी ने ट्वीट किया कि एक प्रख्यात व्यक्तित्व भाजपा मुख्यालय में पार्टी में शामिल होंगे। उनके इस ट्वीट के बाद प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय के दिल्ली में होने और उनके भाजपा में शामिल होने की चर्चाएं गरमाने लगीं। हालांकि मीडिया के लोगों ने जब किशोर से पूछा तो उन्होंने ऐसी किसी भी संभावना से साफ इनकार कर दिया।

उत्तराखंड चुनाव 2022: भाजपा की सेंध से कांग्रेस में हड़कंप, प्रीतम-हरीश और गोदियाल की दिल्ली दौड़

बता दें कि पुरोला के विधायक राजकुमार के भाजपा में शामिल होने से पहले भी बलूनी ने ट्वीट किया था। उनके ट्वीट के बाद सियासी हलकों में राजकुमार के भाजपा में जाने की चर्चाएं शुरू हो गई थीं। उनके भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर ली। कांग्रेस विधायक के भाजपा में जाने के बाद सियासी हलकों में कुछ और कांग्रेस नेताओं के पार्टी छोड़कर प्रदेश में सत्तारूढ़ दल का दामन थामने की चर्चाएं गरमा रही हैं।

सोमवार को एक बार फिर सांसद बलूनी ने एक और नेता के भाजपा में शामिल होने के बारे में एक ट्वीट किया। दोपहर बाद खबर आई कि भाजपा ज्वाइन करने वाले पूर्व राष्ट्रपति ज्ञानी जैल सिंह के पोते इंद्रजीत सिंह हैं। लेकिन चर्चाओं का बाजार अब भी थमा नहीं है। उधर, भाजपा के सूत्र भी किशोर के भाजपा में शामिल होने की संभावना से इनकार नहीं कर रहे हैं।


आगे पढ़ें

…तो इसलिए है किशोर के नाम की चर्चा



Source link

Author: riteshkucc01

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *