आज 1 December 2020 से ये ट्रेनें हुईं शुरू, RTGS, बीमा पॉलिसी और LPG की कीमत में हुआ बदलाव


नई दिल्ली: आज 1 दिसंबर 2020 से आम नागरिकों से जुड़ी कई सेवाओं में बड़ा बदलाव हो रहा है. कोरोना वायरस की वजह से लागू हुए लॉकडाउन के कारण पिछले करीब 8-9 महीने से आम लोगों के लिए कई सुविधाएं या तो बंद थीं या उनमें कमी की गई थी.

आपको बता दें कि लॉकडाउन की वजह से बंद कई ट्रेनों की सेवा आज से शुरू हो गई है. आज से बैंकों में लोगों को 24 घंटे RTGS की सुविधा मिलेगी. इसके अलावा बीमा प्रीमियम और LPG सिलेंडर की कीमतों में भी बदलाव हो गया है.

आज 1 दिसंबर से कई नई ट्रेनें देशभर में शुरू हो गई है. कोरोना वायरस संकट शुरू होने के बाद से इंडियन रेलवे लगातार कई नई स्पेशल ट्रेनें चला रहा है. आज 1 दिसंबर से पंजाब मेल और झेलम एक्सप्रेस ट्रेनों का संचालन होगा. 02137/38 पंजाब मेल स्पेशल और 01077/78 झेलम स्पेशल रोजाना चलेंगी.

रसोई गैस LPG की कीमत
आपको बता दें कि सरकार हर महीने की 1 तारीख को रसोई गैस (LPG) सिलेंडर की कीमत की समीक्षा करती है. मतलब आज 1 दिसंबर को भी रसोई गैस की कीमत में बदलाव हो सकता है. नई कीमत आज 1 दिसंबर से लागू होगी. पिछले महीने 1 नवंबर को रसोई गैस (LPG) सिलेंडर की डिलीवरी के लिए ओटीपी अनिवार्य कर दिया गया था.

24×7 मिलेगी RTGS की सुविधा
जान लें कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (RTGS) को लेकर नियम में बदलाव किया है. नए नियम में अब 24 घंटे RTGS सुविधा का फायदा मिलेगा. RBI ने इस व्यवस्था को 1 दिसंबर से लागू करने का फैसला किया था.

इससे पहले RTGS सिस्टम महीने के दूसरे और चौथे शनिवार को छोड़कर हफ्ते के सभी कामकाजी दिनों में सुबह 7 बजे से शाम 6 बजे तक उपलब्ध होता था. लेकिन अब 24×7 इस सुविधा का लाभ उठाया जा सकेगा. RBI ने ये फैसला बड़े ट्रांजैक्शन या मोटा फंड ट्रांसफर करने वालों को ध्‍यान में रखकर किया है.

गौरतलब है कि एक बैंक से दूसरे बैंक अकाउंट में पैसे ट्रांसफर करने के कई सारे विकल्प मौजूद हैं. इनमें सबसे ज्यादा पॉपुलर RTGS, NEFT और IMPS है. बता दें कि पिछले साल दिसंबर में ही NEFT को भी 24 घंटे के लिए शुरू किया गया था.

क्या होता है RTGS?
RTGS यानी रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट, इसके जरिए तुरंत फंड ट्रांसफर किया जा सकता है. यह बड़े ट्रांजेक्शंस में काम आता है. RTGS के जरिए 2 लाख रुपये से कम अमाउंट ट्रांसफर नहीं हो सकता है. इसे ऑनलाइन और बैंक ब्रांच दोनों माध्यमों से इस्तेमाल किया जा सकता है. इसमें भी किसी तरह का फंड ट्रांसफर शुल्क नहीं हैं. हालांकि ब्रांच में RTGS से फंड ट्रांसफर कराने पर शुल्क देना पड़ता है.

बीमा प्रीमियम में कर पाएंगे बदलाव
आज 1 दिसंबर से बीमाधारक 5 साल के बाद बीमा के प्रीमियम की रकम को 50 प्रतिशत तक घटा पाएंगे. इसका मतलब है कि बीमाधारक पहले की आधी किस्त के साथ भी पॉलिसी जारी रख सकता है.





Source link

Author: riteshkucc01

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *