आईएमए पासिंग आउट परेड 2021 : सरहद की निगहबानी के लिए देश को आज मिलेंगे 341 जाबांज

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


न्यूज़ डेस्क, अमर उजाला, देहरादून
Published by: Nirmala Suyal Nirmala Suyal
Updated Sat, 12 Jun 2021 02:57 AM IST

सार

सेना के दक्षिण-पश्चिमी कमान के जनरल ऑफिसर कमांडिंग ले. जनरल आरपी सिंह बतौर रिव्यूइंग आफिसर परेड का निरीक्षण कर पास जेंटलमैन कैडेट्स से सलामी लेंगे।

भारतीय सैन्य अकादमी में पासिंग आउट परेड
– फोटो : अमर उजाला फाइल फोटो

ख़बर सुनें

सरहदों की निगहबानी के लिए 341 युवा अफसरों की टोली तैयार हो चुकी है। शनिवार को भारतीय सैन्य अकादमी में पासिंग आउट परेड (पीओपी) में यह युवा जाबांजों की टोली देश पर मर-मिटने की शपथ लेकर भारतीय सेना का अभिन्न हिस्सा बन जाएगी।

सेना के दक्षिण-पश्चिमी कमान के जनरल ऑफिसर कमांडिंग ले. जनरल आरपी सिंह बतौर रिव्यूइंग आफिसर परेड का निरीक्षण कर पास जेंटलमैन कैडेट्स से सलामी लेंगे। कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए इस बार भी परेड सादगी से होगी।

पिछली बार की तरह इस बार भी कैडेट्स के परिजन पासिंग आउट परेड नहीं देख पाएंगे। ऐतिहासिक चेटवुड भवन के सामने ड्रिल स्क्वायर पर परेड सुबह साढ़े छह बजे से शुरू होगी। परेड के उपरांत आयोजित होने वाली पीपिंग व ओथ सेरेमनी के बाद 425 जेंटलमैन कैडेट्स बतौर लेफ्टिनेंट देश-विदेश की सेना का अभिन्न अंग बन जाएंगे। इनमें 341 युवा सैन्य अधिकारी भारतीय थलसेना को मिलेंगे। 

जबकि, 84 युवा सैन्य अधिकारी नौ मित्र देशों अफगानिस्तान, तजाकिस्तान, भूटान, मॉरीशस, श्रीलंका, वियतनाम, टोंगा, मालदीव और किर्गिस्तान की सेना का अभिन्न अंग बनेंगे। इसके बाद देहरादून स्थित प्रतिष्ठित भारतीय सैन्य अकादमी के नाम देश-विदेश की सेना को 62 हजार 987 युवा सैन्य अधिकारी देने का गौरव जुड़ जाएगा। इनमें मित्र देशों को मिले 2587 सैन्य अधिकारी भी शामिल हैं। 

पीओपी के मद्देनजर अकादमी के आसपास सुरक्षा व्यवस्था चाक-चौबंद की गई है। चप्पे-चप्पे पर सेना के सशत्र जवान तैनात हैं। पासिंग आउट परेड के दौरान शनिवार सुबह छह बजे से पूर्वाह्न 11 बजे तक पंडितवाड़ी से लेकर प्रेमनगर तक जीरो जोन रहेगा। इस दौरान राष्ट्रीय राजमार्ग-72 (चकराता रोड) से गुजरने वाला यातायात प्रेमनगर व बल्लूपुर से डायवर्ट रहेगा।

मातृभूमि की रक्षा के लिए वीरभूमि के युवा हमेशा से आगे रहे हैं। सेना में सिपाही का रैंक हो या फिर अधिकारी सभी में उत्तराखंड का दबदबा कायम है। इस बार भी वीरभूमि के 37 युवा भारतीय सेना में अफसर बनेंगे। इस बार पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश के 66 और हरियाणा के 38 कैडेट्स पास आउट हो रहे हैं।

राज्यवार कैडेटों की संख्या
राज्य  –  कैडेट
उत्तर प्रदेश  –  66
हरियाणा  –  38
उत्तराखंड –   37
पंजाब –   32
बिहार    29
जम्मू कश्मीर   – 18
दिल्ली  –  18
महाराष्ट्  –  16
हिमाचल प्रदेश  –  16
राजस्थान  –  16
मध्य प्रदेश –   14
पश्चिम बंगाल   – 10
केरल  –  07
कर्नाटक –   07
झारखंड  –  05
मणिपुर   – 05
तेलंगाना   – 02
गुजरात   – 01
गोवा  –  01
उड़ीसा –   01
तमिलनाडु  –  01
आंध्र प्रदेश  –  01
लद्दाख   – 01
चंडीगढ़   – 01
असम  –  01
मिजोरम –   01

विस्तार

सरहदों की निगहबानी के लिए 341 युवा अफसरों की टोली तैयार हो चुकी है। शनिवार को भारतीय सैन्य अकादमी में पासिंग आउट परेड (पीओपी) में यह युवा जाबांजों की टोली देश पर मर-मिटने की शपथ लेकर भारतीय सेना का अभिन्न हिस्सा बन जाएगी।

सेना के दक्षिण-पश्चिमी कमान के जनरल ऑफिसर कमांडिंग ले. जनरल आरपी सिंह बतौर रिव्यूइंग आफिसर परेड का निरीक्षण कर पास जेंटलमैन कैडेट्स से सलामी लेंगे। कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए इस बार भी परेड सादगी से होगी।

पिछली बार की तरह इस बार भी कैडेट्स के परिजन पासिंग आउट परेड नहीं देख पाएंगे। ऐतिहासिक चेटवुड भवन के सामने ड्रिल स्क्वायर पर परेड सुबह साढ़े छह बजे से शुरू होगी। परेड के उपरांत आयोजित होने वाली पीपिंग व ओथ सेरेमनी के बाद 425 जेंटलमैन कैडेट्स बतौर लेफ्टिनेंट देश-विदेश की सेना का अभिन्न अंग बन जाएंगे। इनमें 341 युवा सैन्य अधिकारी भारतीय थलसेना को मिलेंगे। 

जबकि, 84 युवा सैन्य अधिकारी नौ मित्र देशों अफगानिस्तान, तजाकिस्तान, भूटान, मॉरीशस, श्रीलंका, वियतनाम, टोंगा, मालदीव और किर्गिस्तान की सेना का अभिन्न अंग बनेंगे। इसके बाद देहरादून स्थित प्रतिष्ठित भारतीय सैन्य अकादमी के नाम देश-विदेश की सेना को 62 हजार 987 युवा सैन्य अधिकारी देने का गौरव जुड़ जाएगा। इनमें मित्र देशों को मिले 2587 सैन्य अधिकारी भी शामिल हैं। 

पीओपी के मद्देनजर अकादमी के आसपास सुरक्षा व्यवस्था चाक-चौबंद की गई है। चप्पे-चप्पे पर सेना के सशत्र जवान तैनात हैं। पासिंग आउट परेड के दौरान शनिवार सुबह छह बजे से पूर्वाह्न 11 बजे तक पंडितवाड़ी से लेकर प्रेमनगर तक जीरो जोन रहेगा। इस दौरान राष्ट्रीय राजमार्ग-72 (चकराता रोड) से गुजरने वाला यातायात प्रेमनगर व बल्लूपुर से डायवर्ट रहेगा।


आगे पढ़ें

वीरभूमि उत्तराखंड के 37 युवा बनेंगे अफसर 



Source link

Author: riteshkucc01

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *