अनूठी पहल: मतदान बढ़ाने के लिए अटल टनल का सहारा लेगा चुनाव आयोग

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


अमर उजाला ब्यूरो, शिमला
Published by: Krishan Singh
Updated Thu, 14 Oct 2021 10:02 PM IST

सार

निर्वाचन विभाग कई तरह की कवायद कर रहा है। इस क्रम में कुल्लू में रहने वाले लाहौल-स्पीति के लोगों की इस बार के मतदान में सहभागिता बढ़ाने के लिए चुनाव आयोग पर्यटन विभाग की मदद लेगा। इसके तहत लोगों से संपर्क कर उन्हें मतदान के लिए कुल्लू से अपने घरों तक जाने के लिए कहेगा। 

हिमाचल के मुख्य निर्वाचन अधिकारी सी पालरासू
– फोटो : अमर उजाला

ख़बर सुनें

हिमाचल प्रदेश में विधानसभा की तीन और लोकसभा की एक सीट पर हो रहे उपचुनाव में मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए निर्वाचन विभाग कई तरह की कवायद कर रहा है। इस क्रम में कुल्लू में रहने वाले लाहौल-स्पीति के लोगों की इस बार के मतदान में सहभागिता बढ़ाने के लिए चुनाव आयोग पर्यटन विभाग की मदद लेगा। इसके तहत लोगों से संपर्क कर उन्हें मतदान के लिए कुल्लू से अपने घरों तक जाने के लिए कहेगा। साथ ही उन्हें यह भी कहा जाएगा कि वह घर जाने के दौरान अटल टनल रोहतांग के भी नजारे ले सकेंगे। दलील दी जाएगी कि अब उनके घर का रास्ता टनल की वजह से चार घंटे कम हो गया है। ऐसे में वे जरूर अपने मतदान के दायित्व को निभाएं।

ये भी पढ़ें: कोरोना: हिमाचल में चार संक्रमितों की मौत, 13 विद्यार्थियों समेत 182 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव

मुख्य निर्वाचन अधिकारी सी पालरासू ने होटल पीटर हॉफ में आयोजित प्रेस वार्ता के दौरान कहा कि चुनावों को शांतिपूर्ण तरीके से कराने के लिए केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल की छह कंपनी मिल गई हैं जिनमें से मंडी में दो, कुल्लू, शिमला, सोलन, चंबा, कांगड़ा में एक-एक कंपनी तैनात कर दी गई है। इन्हें अति संवेदनशील केंद्रों पर लगाने के साथ ही ईवीएम की सुरक्षा के लिए भी तैनात किया जाएगा। सीईओ ने आगे बताया कि हर विधानसभा क्षेत्र के 50 फीसदी मतदान केंद्रों पर वेब कास्टिंग होगी। 400 सहायक मतदान केंद्रों के साथ कुल 2796 मतदान केंद्रों में से 1397 मतदान केंद्रों पर होगी लाइव वेब कास्टिंग भी की जाएगी। बताया कि कुल केंद्रों में से 48 नाजुक, 267 अतिसंवेदनशील और 2481 मतदान केंद्रों को सामान्य श्रेणी में रखा गया है। 

श्याम सरण नेगी ने नहीं किया पोस्टल बैलेट के लिए आवेदन
देश के पहले मतदाता श्याम सरण नेगी ने चुनाव आयोग की पोस्टल बैलेट की सुविधा को लेने के लिए आवेदन नहीं किया है। सीईओ सी पालरासू ने बताया कि आयोग ने पहली बार 80 साल से ज्यादा उम्र व दिव्यांग मतदाताओं के लिए पोस्टल बैलेट की सुविधा शुरू की है। इस श्रेणी में कुल 50769 मतदाता चिह्नित किए गए हैं जिनसे संपर्क किया गया है। इनमें से सिर्फ अभी तक मंडी में 11700, अर्की में 786, जुब्बल कोटखाई में 750 और फतेहपुर 493 मतदाताओं ने पोस्टल बैलेट सुविधा उपयोग करने के लिए आवेदन किया है। बताया कि खास बात यह है कि बुजुर्ग मतदाता कम ही आवेदन कर रहे हैं। 

कांग्रेस की सोशल मीडिया के दुरुपयोग की शिकायत में नहीं मिला दम
सीईओ ने बताया कि विभिन्न तरह की कुल 23 शिकायतें अब तक मिली हैं। इनमें से 11 शिकायतें निस्तारित हो गई हैं जबकि 12 लंबित है और फील्ड से रिपोर्ट आने पर कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि इसके अलावा कांग्रेस ने शिकायत की थी कि बीजेपी सोशल मीडिया का दुरुपयोग कर उनके प्रत्याशी के खिलाफ दुष्प्रचार कर रही है। डीजीपी की रिपोर्ट के आधार पर शिकायत खारिज कर दी गई है।

कोरोना नियमों का पालन न करने वालों पर करें कार्रवाई : सीईओ
वहीं, हिमाचल प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) सी पालरासू ने वीरवार को पुलिस मुख्यालय से वीडियो कॉन्फ्रें सिंग के जरिये चुनावी प्रक्रिया वाले सभी जिलों के पुलिस अधीक्षकों व एसएचओ के साथ बैठक की। डीजीपी संजय कुंडू की अध्यक्षता में हुई बैठक में सीईओ ने सभी अधिकारियों को चुनाव प्रचार के दौरान कोविड नियमों की अवहेलना करने वालों पर कड़ी कार्रवाई करने के लिए कहा। बैठक में ईवीएम मशीनों, चुनाव सामग्री की सुरक्षा, संवेदनशील क्षेत्रों में सीएपीएफ  की नियुक्ति करने, अवैध शराब पर रोक लगाने के लिए भी कहा गया है। 

विस्तार

हिमाचल प्रदेश में विधानसभा की तीन और लोकसभा की एक सीट पर हो रहे उपचुनाव में मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए निर्वाचन विभाग कई तरह की कवायद कर रहा है। इस क्रम में कुल्लू में रहने वाले लाहौल-स्पीति के लोगों की इस बार के मतदान में सहभागिता बढ़ाने के लिए चुनाव आयोग पर्यटन विभाग की मदद लेगा। इसके तहत लोगों से संपर्क कर उन्हें मतदान के लिए कुल्लू से अपने घरों तक जाने के लिए कहेगा। साथ ही उन्हें यह भी कहा जाएगा कि वह घर जाने के दौरान अटल टनल रोहतांग के भी नजारे ले सकेंगे। दलील दी जाएगी कि अब उनके घर का रास्ता टनल की वजह से चार घंटे कम हो गया है। ऐसे में वे जरूर अपने मतदान के दायित्व को निभाएं।

ये भी पढ़ें: कोरोना: हिमाचल में चार संक्रमितों की मौत, 13 विद्यार्थियों समेत 182 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव

मुख्य निर्वाचन अधिकारी सी पालरासू ने होटल पीटर हॉफ में आयोजित प्रेस वार्ता के दौरान कहा कि चुनावों को शांतिपूर्ण तरीके से कराने के लिए केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल की छह कंपनी मिल गई हैं जिनमें से मंडी में दो, कुल्लू, शिमला, सोलन, चंबा, कांगड़ा में एक-एक कंपनी तैनात कर दी गई है। इन्हें अति संवेदनशील केंद्रों पर लगाने के साथ ही ईवीएम की सुरक्षा के लिए भी तैनात किया जाएगा। सीईओ ने आगे बताया कि हर विधानसभा क्षेत्र के 50 फीसदी मतदान केंद्रों पर वेब कास्टिंग होगी। 400 सहायक मतदान केंद्रों के साथ कुल 2796 मतदान केंद्रों में से 1397 मतदान केंद्रों पर होगी लाइव वेब कास्टिंग भी की जाएगी। बताया कि कुल केंद्रों में से 48 नाजुक, 267 अतिसंवेदनशील और 2481 मतदान केंद्रों को सामान्य श्रेणी में रखा गया है। 

श्याम सरण नेगी ने नहीं किया पोस्टल बैलेट के लिए आवेदन

देश के पहले मतदाता श्याम सरण नेगी ने चुनाव आयोग की पोस्टल बैलेट की सुविधा को लेने के लिए आवेदन नहीं किया है। सीईओ सी पालरासू ने बताया कि आयोग ने पहली बार 80 साल से ज्यादा उम्र व दिव्यांग मतदाताओं के लिए पोस्टल बैलेट की सुविधा शुरू की है। इस श्रेणी में कुल 50769 मतदाता चिह्नित किए गए हैं जिनसे संपर्क किया गया है। इनमें से सिर्फ अभी तक मंडी में 11700, अर्की में 786, जुब्बल कोटखाई में 750 और फतेहपुर 493 मतदाताओं ने पोस्टल बैलेट सुविधा उपयोग करने के लिए आवेदन किया है। बताया कि खास बात यह है कि बुजुर्ग मतदाता कम ही आवेदन कर रहे हैं। 

कांग्रेस की सोशल मीडिया के दुरुपयोग की शिकायत में नहीं मिला दम

सीईओ ने बताया कि विभिन्न तरह की कुल 23 शिकायतें अब तक मिली हैं। इनमें से 11 शिकायतें निस्तारित हो गई हैं जबकि 12 लंबित है और फील्ड से रिपोर्ट आने पर कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि इसके अलावा कांग्रेस ने शिकायत की थी कि बीजेपी सोशल मीडिया का दुरुपयोग कर उनके प्रत्याशी के खिलाफ दुष्प्रचार कर रही है। डीजीपी की रिपोर्ट के आधार पर शिकायत खारिज कर दी गई है।

कोरोना नियमों का पालन न करने वालों पर करें कार्रवाई : सीईओ

वहीं, हिमाचल प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) सी पालरासू ने वीरवार को पुलिस मुख्यालय से वीडियो कॉन्फ्रें सिंग के जरिये चुनावी प्रक्रिया वाले सभी जिलों के पुलिस अधीक्षकों व एसएचओ के साथ बैठक की। डीजीपी संजय कुंडू की अध्यक्षता में हुई बैठक में सीईओ ने सभी अधिकारियों को चुनाव प्रचार के दौरान कोविड नियमों की अवहेलना करने वालों पर कड़ी कार्रवाई करने के लिए कहा। बैठक में ईवीएम मशीनों, चुनाव सामग्री की सुरक्षा, संवेदनशील क्षेत्रों में सीएपीएफ  की नियुक्ति करने, अवैध शराब पर रोक लगाने के लिए भी कहा गया है। 



Source link

Author: riteshkucc01

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *