महाराष्ट्रः दो लाख गांधी दूतों के जरिए भाजपा को जवाब देगी कांग्रेस


पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

महाराष्ट्र में कांग्रेस एक बार फिर पुराने दिनों में वापस लौटना चाहती है। सूबे की नंबर वन पार्टी बनने के लिए पार्टी ने बड़ी रणनीति तैयार की है। नवनियुक्त प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले ने अभी तक पदभार नहीं संभाला है, लेकिन उनके आक्रामक तेवर से सहयोगी दल एनसीपी और शिवसेना में खलबली मच गई है। वहीं, बृहस्पतिवार को पटोले ने एलान किया कि भाजपा के अनर्गल प्रलाप का जवाब देने के लिए प्रदेश कांग्रेस दो लाख गांधी दूत बनाएगी।

दरअसल, कांग्रेस सूबे में भाजपा को ही प्रतिद्वंदी राजनीतिक पार्टी मानती है। इसलिए भाजपा को जवाब देने के लिए गांधी दूत तैनात करने की तैयारी की गई है। बृहस्पतिवार को नाना पटोले ने सोशल मीडिया सेल का उद्घाटन किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि स्व. पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने देश को कंप्यूटर तकनीक दी, लेकिन इसी सूचना तकनीक के सहारे भाजपा ने देश में नफरत की आग भड़काई, इसलिए अब सोशल मीडिया पर गांधी दूत भाजपा को जवाब देंगे।

पटोले ने कहा कि देश में 16 से 35 वर्ष की आयु के युवा वर्ग की 65 फीसदी आबादी है। सोशल मीडिया के महत्व को देखते हुए देश और लोकतंत्र को बचाने के लिए इन युवाओं का सहयोग लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि डिजिटल प्लेटफार्म पर कांग्रेस के कार्यकर्ता गांव-गांव तक फैलें। इसलिए एक महीने में महाराष्ट्र में 2 लाख लोगों को जोड़ा जाएगा। जो कांग्रेस के लिए गांधी के दूत बनेंगे।

दो साल पहले तक कांग्रेस की गणना महाराष्ट्र में चौथे नंबर की पार्टी के रूप में की जाती थी, लेकिन, शिवसेना और एनसीपी के साथ राज्य की सत्ता में लौटने के बाद कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं में नया जोश आया है। उनमें पुराने दिन बहुरने की उम्मीद दिखाई देने लगी है। प्रदेश कांग्रेस की कमान मिलने के बाद नाना पटोले आक्रामक भूमिका में हैं। उन्होंने दावा किया है कि साल 2024 तक कांग्रेस को प्रदेश में नंबर वन पार्टी बनाएंगे। खास बात यह है कि नाना पटोले को ऊर्जा मंत्री नितिन राऊत का पूरा समर्थन है। इसलिए दलित और ओबीसी गठजोड़ से पटोले प्रदेश में नया गुल खिलाना चाहते हैं।
महाराष्ट्र कांग्रेस में संगठनात्मक बदलाव से शिवसेना भी पसोपेश में है, इसलिए विधानसभा अध्यक्ष पद से इस्तीफे के बाद मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की नाराजगी सामने आई थी। दरअसल, पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बालासाहेब थोरात संयमित नेता माने जाते हैं, लेकिन नाना पटोले की छवि बिल्कुल उनके प्रतिकूल है। पटोले शिवसेना के लिए मुसीबत बन सकते हैं। राजनीति के जानकार कहते हैं कि जिस तरह पूर्व मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस की सरकार में साझीदार होते हुए भी शिवसेना विपक्षी रूख अपनाती रही है। आने वाले दिनों में कांग्रेस भी इसी भूमिका में नजर आएगी। इसलिए शिवसेना की परेशानी लाजिमी है।

महाराष्ट्र में कांग्रेस एक बार फिर पुराने दिनों में वापस लौटना चाहती है। सूबे की नंबर वन पार्टी बनने के लिए पार्टी ने बड़ी रणनीति तैयार की है। नवनियुक्त प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले ने अभी तक पदभार नहीं संभाला है, लेकिन उनके आक्रामक तेवर से सहयोगी दल एनसीपी और शिवसेना में खलबली मच गई है। वहीं, बृहस्पतिवार को पटोले ने एलान किया कि भाजपा के अनर्गल प्रलाप का जवाब देने के लिए प्रदेश कांग्रेस दो लाख गांधी दूत बनाएगी।

दरअसल, कांग्रेस सूबे में भाजपा को ही प्रतिद्वंदी राजनीतिक पार्टी मानती है। इसलिए भाजपा को जवाब देने के लिए गांधी दूत तैनात करने की तैयारी की गई है। बृहस्पतिवार को नाना पटोले ने सोशल मीडिया सेल का उद्घाटन किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि स्व. पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने देश को कंप्यूटर तकनीक दी, लेकिन इसी सूचना तकनीक के सहारे भाजपा ने देश में नफरत की आग भड़काई, इसलिए अब सोशल मीडिया पर गांधी दूत भाजपा को जवाब देंगे।

पटोले ने कहा कि देश में 16 से 35 वर्ष की आयु के युवा वर्ग की 65 फीसदी आबादी है। सोशल मीडिया के महत्व को देखते हुए देश और लोकतंत्र को बचाने के लिए इन युवाओं का सहयोग लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि डिजिटल प्लेटफार्म पर कांग्रेस के कार्यकर्ता गांव-गांव तक फैलें। इसलिए एक महीने में महाराष्ट्र में 2 लाख लोगों को जोड़ा जाएगा। जो कांग्रेस के लिए गांधी के दूत बनेंगे।


आगे पढ़ें

सत्ता में आने के बाद फिरे कांग्रेस के दिन



Source link

Author: riteshkucc01

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *