उत्तराखंड: जंगल में आग बुझाने गए एक फॉरेस्टर और एक फॉरेस्ट गार्ड की मौत


जंगल में लगी आग
– फोटो : अमर उजाला फाइल फोटो

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

गढ़वाल वन प्रभाग की पोखड़ा रेंज के जंगल में लगी आग बुझाने के लिए गए एक फॉरेस्टर और एक फॉरेस्ट गार्ड की मौत हो गई। मौत के कारणों का अभी पता नहीं चला है। वन विभाग इसकी जांच में जुटा हुआ है। वन अधिकारियों ने दोनों वन कर्मियों के शवों को जंगल से बरामद कर लिया है। 

पोखड़ा रेंज अधिकारी राखी जुयाल ने बताया कि बुधवार को पोखड़ा बीट में ल्वींठा गांव से ऊपर जंगल में आग लगी थी। आग बुझाने के लिए पांच वन कर्मियों को मौके पर भेजा गया था। शाम करीब चार बजे आग बुझाने की कार्रवाई से पहले जंगल के नीचे तीन वन कर्मियों को रोककर दो वन कर्मी फॉरेस्ट गार्ड हरिमोहन (51) और फॉरेस्टर दिनेेश लाल (55) आग देखने गए थे। काफी देर के बाद भी उनके नहीं लौटने पर नीचे इंतजार कर रहे तीन वन कर्मियों ने उनकी खोज शुरू कर दी। जंगल में उनके बैग देखे गए। इसके बाद दोनों जंगल की खाई में गंभीर रूप से घायल अवस्था में गिरे मिले।

वन कर्मियों ने इसकी सूचना आला अधिकारियों को दी और उनको लेकर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र नौगांवखाल पहुंचे। जहां डाक्टरों ने दोनों को मृत घोषित कर दिया। रेंज अधिकारी राखी जुयाल ने बताया कि दोनों वन कर्मियों के शरीर पर जलने का कोई निशान नहीं दिखाई दिए। संभवत: वे पांव फिसलने से पहाड़ी से गिर गए होंगे। मौत के कारणों की जांच की जा रही है। शव पोस्टमार्टम के लिए पीएचसी नौगांवखाल में रखे हैं। आगे की कार्रवाई गुरुवार को की जा रही है।

आग बुझी, वन कर्मियों ने ली राहत की सांस

श्रीनगर में विकासखंड कीर्तिनगर के दुगड्डा-चौकी मोटर मार्ग के पैंडूला बैंड से मंगलवार शाम को सुलगी आग जंगल के काफी बड़े क्षेत्र में फैल गई। जिसके बाद जंगल जलने लगा। बुधवार को डांगचौरा रेंज के कर्मियों ने काफी मशक्कत के बाद आग को बुझा लिया। जिसके बाद ग्रामीणों व विभागीय कर्मियों ने राहत की सांस ली।

गढ़वाल वन प्रभाग की पोखड़ा रेंज के जंगल में लगी आग बुझाने के लिए गए एक फॉरेस्टर और एक फॉरेस्ट गार्ड की मौत हो गई। मौत के कारणों का अभी पता नहीं चला है। वन विभाग इसकी जांच में जुटा हुआ है। वन अधिकारियों ने दोनों वन कर्मियों के शवों को जंगल से बरामद कर लिया है। 

पोखड़ा रेंज अधिकारी राखी जुयाल ने बताया कि बुधवार को पोखड़ा बीट में ल्वींठा गांव से ऊपर जंगल में आग लगी थी। आग बुझाने के लिए पांच वन कर्मियों को मौके पर भेजा गया था। शाम करीब चार बजे आग बुझाने की कार्रवाई से पहले जंगल के नीचे तीन वन कर्मियों को रोककर दो वन कर्मी फॉरेस्ट गार्ड हरिमोहन (51) और फॉरेस्टर दिनेेश लाल (55) आग देखने गए थे। काफी देर के बाद भी उनके नहीं लौटने पर नीचे इंतजार कर रहे तीन वन कर्मियों ने उनकी खोज शुरू कर दी। जंगल में उनके बैग देखे गए। इसके बाद दोनों जंगल की खाई में गंभीर रूप से घायल अवस्था में गिरे मिले।

वन कर्मियों ने इसकी सूचना आला अधिकारियों को दी और उनको लेकर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र नौगांवखाल पहुंचे। जहां डाक्टरों ने दोनों को मृत घोषित कर दिया। रेंज अधिकारी राखी जुयाल ने बताया कि दोनों वन कर्मियों के शरीर पर जलने का कोई निशान नहीं दिखाई दिए। संभवत: वे पांव फिसलने से पहाड़ी से गिर गए होंगे। मौत के कारणों की जांच की जा रही है। शव पोस्टमार्टम के लिए पीएचसी नौगांवखाल में रखे हैं। आगे की कार्रवाई गुरुवार को की जा रही है।

आग बुझी, वन कर्मियों ने ली राहत की सांस

श्रीनगर में विकासखंड कीर्तिनगर के दुगड्डा-चौकी मोटर मार्ग के पैंडूला बैंड से मंगलवार शाम को सुलगी आग जंगल के काफी बड़े क्षेत्र में फैल गई। जिसके बाद जंगल जलने लगा। बुधवार को डांगचौरा रेंज के कर्मियों ने काफी मशक्कत के बाद आग को बुझा लिया। जिसके बाद ग्रामीणों व विभागीय कर्मियों ने राहत की सांस ली।



Source link

Author: riteshkucc01

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *